Saturday, May 15, 2021
- Advertisement -

कभी पढ़ने के लिए करते थे राशन की दुकान पर काम, आज मेहनत कर बन चुके हैं सब-इंस्पेक्टर

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

आज हम अपने आसपास ऐसे कई लोग देखते हैं जो अपनी असफलता का कारण संसाधनों की कमी को समझते हैं| लेकिन असल में यदि आपके पास काबिलियत है और आप कुछ अच्छा करने के सपने देखते हैं तो आपको संसाधनों की कमी कभी महसूस नहीं होगी| आज एक पुलिस अफसर इसी बात का जीता जागता उदाहरण बन चुके हैं| आज उन्होंने अपनी मेहनत और काबिलियत से सभी को बता दिया है कि यदि आप कुछ करना चाहते हैं तो आपको हर समस्या को अवसर में बदलना होगा| आज हम आपको एक ऐसे ही पुलिस अफसर के बारें में बताने जा रहे हैं जिन्होंने अपनी मेहनत से समस्याओं को अवसर में बदला और सफलता को प्राप्त किया|

पुलिस सब-इंस्पेक्टर मोइन खान

आज हम बात कर रहे हैं जम्मू कश्मीर में कार्यरत पुलिस सब-इंस्पेक्टर मोइन खान के बारें में| मोइन एक बहुत ही होनहार और मेहनती व्यक्ति हैं, इस बात को उन्होंने अपने कार्यों से साबित कर दिया है| आमतौर पर लोग मानते हैं कि जिंदगी एक न एक बार अवसर अवश्य देती है लेकिन मोइन का मानना इसके बिल्कुल विपरीत है उनका मानना है कि अवसर मिलते नहीं हैं अपितु अपनी मेहनत से बनाए जाते हैं और मोइन ने भी संसाधनों की कमी को अवसर में बदला और बन गए पुलिस अफसर| लेकिन मोइन का यह सफर कठिनाइयों से भरा था, आइए जानते है मोइन के सफर के बारें में|

मोइन पढ़ाई के साथ-साथ करते थे नौकरी

एक साक्षात्कार में मोइन ने बताया कि 2006 में मोइन ने अपनी 10वीं कक्षा पास की थी और 11वीं कक्षा में दाखिला लिया, लेकिन तभी उनके पिता उन्हें बताते हैं कि उनके पिता का बिज़नस नुकसान में जाने के कारण बंद करना पड़ गया है| तो मोइन को समझ आ गया कि अब जो करना है अपने बलबूते पर ही करना है| तभी मोइन ने एक राशन की दुकान में काम करना शुरू कर दिया| मोइन दिन में स्कूल जाया करते थे और शाम में 6 बजे से लेकर रात 10 बजे तक राशन की दुकान पर काम किया करते थे| ऐसे करते हुए उन्होंने अपनी 12वीं कक्षा पूरी कर ली|

स्नातक में दाखिला तो लिया लेकिन आर्थिक कारणों से छोड़नी पड़ी

अपनी 12वीं कक्षा के बाद मोइन ने स्नातक में दाखिला तो ले लिया लेकिन तभी उनको पता चलता है कि उनके पिता का एक्सिडेंट हो गया है और अब सारी ज़िम्मेदारी मोइन के कंधों पर आ गई है| इसलिए अब मोइन ने पढ़ाई छोड़ दी और नौकरी की तलाश में निकल गए| तब उन्हें एक पिज्जा की दुकान पर नौकरी मिली| मोइन ने बताया कि दुकानदार ने उनसे पूछा कि यहाँ झाड़ू-पोंछा, साफ़ सफाई करनी पड़ेगी कर लोगे? तब मोइन ने कहा कि आज मैं इतना मजबूर हूँ कि आप मुझे जो बोलेंगे मैं वो करने को तैयार हूँ|

एक ग्राहक ने की पढ़ाई में मदद, खोला खुद का बिज़नस

मोइन को पिज्जा की दुकान पर आने वाले एक ग्राहक ने समझा और उनकी पढ़ाई में मदद की| तब मोइन ने अपनी स्नातक पूरी की| मोइन अपने परिवार में पहले व्यक्ति थे जिन्होंने स्नातक पूरी की| अब वह एमबीए करना चाहते थे लेकिन पैसे नहीं थे, इसलिए उन्होंने सोचा कि क्यूँ न कोई काम शुरू किया जाए| तब मोइन ने कार धुलाई का काम शुरू किया| तब उनसे किसी ने कहा कि “पढ़-लिखकर क्या कर लिया गाड़ी ही धोते हो न|”

पिता ने दिया साथ और खोजे नए अवसर
मोइन से जब उस शक्स ने ऐसा कहा तो वह अपने पिता के पास गए और बोले कि मुझे मेरा समय चाहिए मैं कुछ करना चाहता हूँ| उनके पिता ने उन्हें समय दिया और तभी मोइन ने देखा कि जम्मू कश्मीर में सब-इंस्पेक्टर की भर्ती के लिए आवेदन शुरू हो चुके हैं| अब उन्होंने अपने अवसर को पा लिया था| अब समय था अवसर को सफलता में बदलने का और उन्होंने ऐसा किया भी|

‘ऑपरेशन ड्रीम्स’ ने बदल दी जिंदगी

मोइन ने जब परीक्षा की तैयारी करने का सोचा तो उनके पास पढ़ने के लिए न तो कोई साधन था और न ही मार्गदर्शक| तब उन्हें ‘ऑपरेशन ड्रीम्स’ के बारें में पता चला| ‘ऑपरेशन ड्रीम्स’ आईपीएस संदीप चौधरी का एक प्रोग्राम है जिसमें वह अभ्यर्थियों का फ्री में मार्गदर्शन करते हैं| बस फिर क्या था मोइन ने उनके मार्गदर्शन को अच्छे से समझा और परीक्षा के लिए तैयार हो गए|

पहले प्रयास में पास की परीक्षा

मोइन ने पहले ही प्रयास में अपनी लिखित परीक्षा को पास कर लिया था| लेकिन अब उनको साक्षात्कार की चिंता सताने लगी| क्यूंकि वह नहीं जानते थे कि कैसे साक्षात्कार दिया जाता है और तब तक आईपीएस संदीप चौधरी का भी तबादला हो चुका था| लेकिन मोइन ने हार नहीं मनी और उनके मन में था कि उनको यह अवसर अपने हाथ से जाने नहीं देना है| क्यूंकि मोइन बहुत ही मुश्किलों से यहाँ तक पहुंचे थे|

सोशल मीडिया ने दिया साथ, और बन गए जम्मू-कश्मीर के सब-इंस्पेक्टर

जब मोइन को साक्षात्कार की चिंता हुई तो उन्होंने सोशल मीडिया का सहारा लिया, साथ ही आईपीएस संदीप भी उनका मार्गदर्शन कर रहे थे| मोइन ने साक्षात्कार दिया और पहले ही प्रयास में उन्हें सब-इंस्पेक्टर के लिए चुन लिया गया| आज मोइन जम्मू और कश्मीर में अपने कंधों पर चमचामते सितारे लगाए सब-इंस्पेक्टर के पद पर नियुक्त हैं|

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -