Thursday, May 13, 2021
- Advertisement -

दीये की रोशनी में की पढ़ाई, 24 बार असफलता को हरा कर बन चुके हैं सरकारी अफसर

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

माना जाता है कि संघर्ष के सर्वोच्च शिखर पर सफलता होती है| यदि आपको सफलता हासिल करनी है तो आपका संघर्ष भी उतना ही कठिन करना होगा| कहते हैं कि जिस प्रकार एक बार दीया जलाकर बुझा देने से अंधकार दूर नहीं होता उसी प्रकार एक बार प्रयास करने से सपना पूरा नहीं होता| आज की कहानी एक ऐसे ही शक्स की है जिसने हमेशा अपने लक्ष्य पर ध्यान केन्द्रित रखा और अपने सपनों को पूरा किया|

facebook/premkumawat

संघर्ष की मिसाल हैं प्रेम

हनुमानगढ़ के रहने वाले प्रेम कुमावत आज संघर्ष की मिसाल बन चुके हैं| प्रेम एक किसान परिवार से हैं और बहुत ही मेहनती और बुलंद हौंसलों वाले व्यक्ति हैं| प्रेम ने बचपन से ही अपने जीवन में दुखों को खेला हैं| वह हमेशा अपनी माँ को दुनिया की हर खुशी देना चाहते थे| आज प्रेम युवाओं के लुए भी प्रेरणास्त्रोत का काम कर रहे हैं| जो लोग एक बार प्रयास में असफल होने से ही हार मान लेते हैं उन्हें एक बार जरूर हमारे इस लेख को पढ़ना चाहिए|

छोटी उम्र में ही हो गया था पिता का देहांत

प्रेम कुमावत का परिवार पहले से ही आर्थिक तंगी से झूझ रहा था| जिस उम्र में एक बच्चा अपने जीवन की शुरुआत करता है उसी छोटी उम्र में प्रेम के पिता का देहांत हो गया| अब सारी ज़िम्मेदारी थी तो प्रेम के कंधों पर लेकिन अभी यह कंधे इतने मजबूत नहीं थे| जब प्रेम के पिता का देहांत हुआ तो वह पहली कक्षा में थे| अब प्रेम दिन में स्कूल जाते थे और स्कूल से आकर बकरियों को चराया करते थे|

दीये की रोशनी में करते थे पढ़ाई, साथ में करते थे नौकरी

12वीं कक्षा तक प्रेम ऐसे ही पढ़ते रहे| उसके बाद उन्होंने आगे की पढ़ाई के लिए निजी कॉलेज में दाखिला लिया| साथ ही साथ उन्होंने नौकरी के लिए एक स्कूल में भी आवेदन किया और नौकरी हासिल की ताकि घर के हालात थोड़े बेहतर हो सके| लेकिन अभी भी प्रेम कुछ बड़ा करना चाहते थे, वह प्रतियोगी परीक्षाओं की भी तैयारी कर रहे थे| घर में बिजली की सुविधा नहीं थी इसी कारण से प्रेम दीये की रोशनी में पढ़ाई करते थे|

24 बार हुए फ़ेल लेकिन नहीं मानी हार

प्रेम सरकारी अफसर बन कर अपने घर के हालातों को ठीक करना चाहते थे| इसके के लिए वह लगातार प्रतियोगी परीक्षाएँ दे रहे थे| लेकिन 24 बार उन्हें असफलता का सामना करना पड़ा| लेकिन प्रेम ने तब भी हार नहीं मानी और वापस से एक बार फिर परीक्षा दी और पास भी हुए| अब प्रेम सरकारी अफसर बन चुके है| प्रेम ने हमेशा से सफलता के लिए तीन शब्दों को को अपने जीवन में उतारा है| अनुशासन, ईमानदारी और मेहनत इन तीनों को प्रेम ने अपना लक्ष्य बनाया और ज़िंदगी की उड़ान भरते गए|

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -