Wednesday, April 21, 2021
- Advertisement -

भारतीय आर्मी के जवान ने बजाया शंख और रच दिया इतिहास, जवान ने अपने हुनर से लहराया भारतीय परचम

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

आमतौर पर जब भी घरों में कोई शुभ कार्य किया जाता है तो उसमें शंख जरूर बजाया जाता है| साथ ही शंख की ध्वनि भी सुनने में अत्यंत मधुर और उत्साहवर्धक होती है| लेकिन एक जवान ने इसी शंख से इतिहास रच कर सभी को हैरान कर दिया है| आज भारतीय जवान ने दुश्मनों को मैदान में धूल चटाने के साथ साथ विश्व स्तर पर भी भारत का नाम रोशन कर दिया है| आइए जानते हैं इस होनहार जवान के बारें में|

शंभू ने शंख बजाकर लहराया भारतीय परचम

शंभू बिहार राज्य के रहने वाले हैं और भारतीय आर्मी के जवान भी हैं| आज शंभू ने अपने शंख बजाने के हुनर से भारत का नाम विश्व स्तर पर ऊंचा कर दिया है| शंभू ने अपने शंख बजाने के हुनर के कारण अपना नाम गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज़ करा लिया है| शंभू के द्वारा बनाया यह रिकॉर्ड अभी तक किसी भी व्यक्ति के नाम पर नहीं था|

लगातार 2 घंटे से भी ज्यादा बजा चुके हैं शंख

शंभू शंख बजाने में निपूर्ण हैं इसलिए उन्हें गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड की टीम की तरफ से अपना हुनर प्रदर्शित करने के लिए एक मौका दिया गया, जिसमें उन्हें एक ही ध्वनि और एक ही सांस में 70 सेकंड तक शंख बजाना था और आपको यह जानकार आश्चर्य होगा कि शंभू इस मानक पर खरे उतरे और 80 सेकंड तक लगातार एक सांस और एक ही आवाज़ में शंख बजाते रहे| उनके इस हुनर के कारण उनका नाम गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हो गया| बता दें कि शंभू लगातार 2 घंटे तक भी शंख बजा चुके हैं|

शंख बजाते समय लेते हैं सांस लेकिन शंख की ध्वनि में नहीं होता बदलाव

शंभू कई बार ढाई घंटे तक लगातार शंख बजा चुके हैं, लेकिन खास बात यह है कि वह शंख बजाते समय सांस लेते हैं लेकिन शंख की ध्वनि में कोई बदलाव नहीं आता| बता दें कि शंभू बनारस के एक मठ में रहते थे तो वहाँ वह पूजा के दौरान शंख बजाया करते थे तभी एक दिन मठाधीश ने उनकी कला को परखा और शंभू को शंख बजाने के लिए प्रेरित किया| तभी से शंभू निरंतर प्रयास करते करते आज सफलता के इस मुकाम तक पहुँच चुके हैं, जहां से उन्हें हटाना आसान नहीं|

जीत चुके हैं अन्य कई पुरस्कार

गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड से पहले भी शंभू अन्य कई पुरस्कार अपने नाम चुके हैं| शंभू का नाम भारत वर्ल्ड रिकॉर्ड में लगातार 53 मिनट शंख बजाने, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में लगातार 33 मिनट शंख बजाने और इंडिया स्टार बुक में लगातार 53 मिनट शंख बजाने के लिए दर्ज है| साथ ही वह अन्य और पुरस्कारों के लिए भी मेहनत कर रहे हैं|

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -