Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

पिता की परेशानी को दूर करने के लिए 12वीं पास छात्र ने बनाया ड्राइवरलैस ट्रैक्टर, हो रही है तारीफ

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

New Delhi: दुनिया में ड्राइवरलैस कार चलाने पर शोध चल रहा है। इससे पहले ही एक 12वीं पास छात्र ने ऐसा कारनामा कर दिखाया है, जिसके लिए उसकी जमकर तारीफ की जा रही है। छात्र ने ड्राइवरलैस ट्रैक्टर बना दिया है। जिसकी मदद से अब बिना ड्राइवर के ही ट्रैक्टर खेतों की जुताई कर सकता है। यह कारनामा करने वाले छात्र का नाम योगेश नागर है, और वह राजस्थान के बारां का रहने वाला है।

पिता को होती थी परेशानी


खेतों की जुताई के लिए अक्सर जब ड्राइवर नहीं मिल रहे थे तो योगेश के पिता को काफी परेशानी होती थी। पिता को परेशान होते देख योगेश ने ऐसी तरकीब निकाली। अब ड्र्राइवर खोजने की जरूरत नहीं। ड्राइवरलैस ट्रैक्टर ही खेतों में जुताई करेगा।

ड्राइवरलैस ट्रैक्टर रिमोट से चलता है
योगेश ने एक रिमोट बनाया है, जिसके कंट्रोल से ट्रैक्टर खेत की जुताई करता है। इसकी खास बात यह है कि रिमोट कंट्रोल से ट्रैक्टर एक किमी तक कंट्रोल में आता है। वहीं अगर कोई सामने आ जाए तो इसमें लगे सेंसर एक्टिव हो जाते हैं और अपने आप ही ब्रेक लग जाते हैं। जिससे किसी को कई नुकसान भी नहीं पहुंचता है।

क्या कहते हैं योगेश
योगेश बताते हैं कि उनके पास 15 बीघा खेतों के लिए एक ट्रैक्टर है। कई बार उन्होंने देखा कि खेतों की जुताई करने के दौरान उनके पिता के पेट में दर्द होता था। जब डॉक्टरों के द्वारा ईलाज करवाया गया तो पता चला कि उनके आंतों में खिंचाव आया है। जिसके बाद पिता की जगह उन्होंने ट्रैक्टर चलाया।

50 हजार की लागत से बनाया ड्राइवरलैस ट्रैक्टर
ड्राइवर लैस ट्रैक्टर बनाने के लिए योगेश ने पिता को अपनी मन की बात बताई। हालांकि पिता को बेटे की बात पर यकीन नहीं हुआ। लेकिन उन्होंने दो हजार रुपये योगेश को दिए। 2 हजार रुपये की मदद से योगेश ने एक ऐसा सैंपल तैयार किया, जिससे ट्रैक्टर को आगे पीछे आसानी से किया जा सकता था। यह देखकर पिता को यकीन हुआ, उन्होंने 50 हजार रुपये बेटे को दिए। इन पैसों से योगेश ने कुछ जरूरी सामान खरीदा और ऐसा रिमोट तैयार कर दिया, जो ट्रैक्टर को बिना ड्राइवर के ही चला सकता है। बताया जा रहा है कि योगेश का ये रिमोट सैटेलाइट के जरिए ट्रैक्टर में लगे ट्रांसमिटर से कनेक्ट रहता है।

source news18

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -