Wednesday, April 21, 2021
- Advertisement -

किसान आंदोलन में हिस्सा लेने,300 किमी साइकिल चलाकर टिकरी बॉर्डर पहुंची 18 साल की बलजीत कौर

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

New Delhi: नए कृषि कानून के विरोध में किसान आंदोलन अभी भी जारी है। शनिवार को इस आंदोलन का 31 वां दिन था। किसान अपनी पुरानी मांगों को लेकर सिंधु बॉर्डर,, टिकरी बॉर्डर और गाजीपुर बॉर्डर पर डटे हुए हैं। इनकी संख्या अब हजारों में नहीं बल्कि सैकड़ों में है। देश ही नहीं अब विदेशों से चलकर लोग धरना स्थल पर पहुंच रहे हैं। बीते एक माह में कनाडा, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों से लोग सिंधु बॉर्डर पहुंच रहे हैं। इस $कड़ी में एक नाम और जुड़ा है। एक 18 साल की लडक़ी पंजाब के संगरूर से साइकिल चलाकर दिल्ली पहुंच रही है।

साइकिल चलाकर किसान आंदोलन में आ रही है बलजीत कौर
पंजाब के संगरूर से साइकिल चलाकर 18 साल की बलजीत कौर टिकरी बॉर्डर पहुंची हैं। उन्होंने बताया कि वह साइकलिस्ट हैं, और उन्होंने परिवार के समर्थन से दिल्ली जाने का फैसला किया है।

300 किमी का सफर, साइकिल से तय किया
बलजीत कौर बताती हैं कि उन्होंने 300 किमी का सफर तय किया है टिकरी बॉर्डर पहुंचने में। उन्होंने बताया कि वह अंडर-18-19 में गोल्ड मेडल भी ला चुकी है। वह साइकलिंग में पंजाब का प्रतिनिधित्व भी कर चुकी है।

किसानों को मिलेगा हौसला
बलजीत ने बताया कि हमारे वहां जाने से किसानों का काफी हौसला मिलेगा। हालांकि वह कितने दिन वहां रुकेंगी। इस पर ज्यादा कुछ नहीं बोला है। बस यह कहा कि प्रदर्शन में शामिल होने के बाद देखते हैं कि कितने दिन रह सकते हैं।

साइकिल से भी लोग पहुंच सकते हैं
बलजीत बताती हैं कि उनके परिवार के लोगों ने कहा था कि साइकिल से ही जाना है। वह खुद कहती हैं कि ऐसा लोगों को लगता है कि प्रदर्शन में सिर्फ ट्रैक्टर, बाइक या फिर दूसरे वाहन से ही जाया जा सकता है। लेकिन ऐसा नहीं है हम साइकिल से इसलिए जा रहे हैं, जिससे दूसरे लोगों को यह समझ आए कि धरना में किसान भाईयों को सपोर्ट करने के लिए हिम्मत होनी चाहिए। कौर आगे कहती हैं उन्हें उम्मीद है कि उन्हें देखकर और भी लोग किसानों को समर्थन देने के लिए पहुंचेंगे।

 

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -