Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

20 साल की लड़की ने मुंडवा दिए अपने सिर के बाल, कहा कैंसर के मरीजों के काम आएंगे

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

New Delhi: हर लड़की का सपना होता है कि उसके बाल लंबे होने के साथ काले घने होने चाहिए। जिसके लिए लड़कियां न जाने कितने ही उपाय व जतन करती हैं। हालांकि किसी के बाल लंबे होते हैं तो काले घने नहीं होते। बहरहाल, आज हम आपको एक ऐसी लडक़ी के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसने हंसते-हंसते अपने सर के बालों को मुंडवा दिया।

कैंसर पीडि़तों के लिए मुंडवाए बाल
20 साल की श्रुति मैती को भी अपने बाल से काफी प्यार था। वह थर्ड ईयर की छात्रा हैं। फिर भी उन्होंने इस बारे में नहीं सोचा कि कॉलेज जाने पर लोग क्या कहेंगे। बाल नहीं होने से उनकी सुंदरता में भी कमी आएगी। लेकिन श्रृति ने इन सब बातों पर ध्यान नहीं देते हुए खुशी-खुशी अपने बाल कैंसर के मरीजों के लिए दान कर दिए हैं। वह कहती है गुण अच्छे होने चाहिए, बाकी तो सब सुंदर है। वह कहती हैं कि एक कैंसर रोगी के चेहरे पर एक मुस्कान मेरे बालों की तुलना में अधिक सुंदर है।

बाल दान करने के लिए कुछ दिन पहले किया फैसला
श्रुति मैती बारिपदा शहर के तुलसीचौरा इलाके में रहती हैं। वह बताती हैं कि उन्होंने बाल दान करने के लिए अभी कुछ दिन पहले ही सोचा था। उन्होंने बताया कि जब मैं प्लस-2 के अंतिम वर्ष में थी तो मुझे सर मुंडवाने का ख्याल आया था। उन्होंने बताया कि वह अपने एक करीबी दोस्त की मां से मिले, जिनका कीमोथेरेपी के कारण बाल खत्म हो चुके थे। बस मैंने उसी वक्त सोच लिया कि हम इनकी मदद करेंगे

कैंसर पीडि़तों के लिए विग बनाने वाले लोगों से किया संपर्क
श्रुति मैता ने इसके बाद उन लोगों से संपर्क किया जो कैंसर पीडि़तों के लिए विग तैयार करते हैं। लेकिन वो मदद न कर सके। इसके बाद मैती ने इंटरनेट पर उन संगठनों की खोज की जो कैंसर रोगियों के लिए विग बनाने के लिए महिलाओं के बाल खरीदते हैं। आखिर में दो संगठन मिल ही गए

तीन दिन पहले मुंडवाए सर के बाल
मैती बताती हैं कि उन्होंने एक नाई को अपने घर तीन दिन पहले बुलाया था। लेकिन उसने बाल काटने से मना कर दिया। जब नाई को मैती के बाल कटवाने के पीछे का मकसद पता चला तो उसे फ्री में बाल काट दिए। मैती बताती हैंं कि वह इन बालों को कूरियर की मदद से संगठन को भेज देंगी। श्रुति की मां ने कहा कि उन्हें अपनी बेटी पर गर्व है।

source the new indian express

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -