Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

9 साल की बच्ची बजा रही थी पियानो और डॉक्टर ने कर दिया ऑपरेशन

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

New Delhi: मरीज के ऑपरेशन के दौरान डॉक्टर हमेशा सावधानी रखते हैं। जिससे ऑपरेशन के दौरान किसी तरह की कोई दिक्कत न आए। क्योंकि मरीज को बचाने की सारी जिम्मेदारी ऑपरेशन कर रहे डॉक्टर पर ही होती है। हालांकि कभी-कभी डॉक्टर ऑपरेशन के दौरान कुछ नई तरकीब भी अपनाते हैं, जैसे कि ऑपरेशन के दौरान मरीज का ध्यान डायवर्ट करने के लिए उसे कुछ खिलौने व अन्य चीजे दे देते हैं, जिससे वह आसानी से ऑपरेशन कर सकते हैं।
बहरहाल, आज आपको एक ऐसे मरीज और डॉक्टर की कहानी बताने जा रहे हैं, जिसमें मरीज का ऑपरेशन कर डॉक्टर ने उसे नई जिंदगी दी है। ऑपरेशन की खास बात यह रही कि मरीज जो कि 9 साल की एक बच्ची थी, वह ऑपरेशन के दौरान पियानो बजाती रही। और डॉक्टरों ने उसका ब्रेन ट्यूमर का ऑपरेशन कर दिया।
बताते चले कि मध्यप्रदेश के ग्वालियर के बिरला अस्पताल के डॉक्टरों ने 9 साल की बच्ची का ब्रेन ट्यूमर का ऑपरेशन किया है। इस दौरान बच्ची पियानो बजाती रही।

ऑपरेशन के बाद क्या कहा बच्ची ने
ऑपरेशन सफल होने के बाद 9 साल की बच्ची ने कहा कि अब मैं पूर्ण रूप से स्वस्थ हूं। उन्होंने कहा कि मुझे पियानो बजाने का शौक है, इसलिए मैंने डॉक्टरों से कहा था कि वह मुझे पियानो बजाने के लिए इजाजत दें। बच्ची बताती हैं कि उन्होंने लगभग 5 से 6 घंटे तक पियानो बजाया है।

abpnewstv

क्या कहते हैं डॉक्टर
बिरला अस्पताल के न्यरो सर्जन डॉ. अभिषेक चौहान ने बताया कि 9 साल की बच्ची को पिछले दो साल से मिरगी के दौरे आ रहे थे। उन्होंने कहा कि बच्ची के जिस हिस्से में ट्यूमर था, वह हिस्सा हाथ की तारों से जुड़ा था। हालांकि ऑपरेशन के दौरान उसके अपंग होने का खतरा भी था। जिसे देखते हुए मरीज का ध्यान डायवर्ट किया गया। जिसके बाद हमने आसानी से सफल ऑपरेशन कर लिया।

source by abpnewstv

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -