Thursday, April 22, 2021
- Advertisement -

अभिनेता आर.माधवन करने लगे किसानी, उगा रहे हैं नारियल

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

किसान का नाम सुनते ही हमारी आंखों के सामने दुबले-पतले और पैरों में दरार पड़े हुए अधेड़ उम्र के शख्स की तस्वीर आ जाती है. खेती-बाड़ी करने वाले किसान अपने से ज्यादा अपनी फसल की चिंता में व्यस्त रहते हैं. उन्हें फसलों से अपने बच्चों की तरह प्यार हो जाता है. उसकी देख-रेख करने में वह दिन को दिन और रात को रात नहीं समझते हैं. लेकिन अब देश में किसानों की तस्वीर बदल रही है, अब युवा भी खेती का काम करने के लिए आगे आ रहे हैं.

बॉलीवुड पर धाक जमाने वाले अभिनेता सलमान ख़ान भी लाकडाउन के दौरान अपने फॉर्महाउस पर खेती करते हुए नज़र आए थे. किसानी करते हुए उनकी कई तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी. बॉलीवुड के अलावा क्रिकेटर मैदान में चौक्के-छक्के मारने के अलावा खेत में कुदाल चलाकार खेती कर रहे हैं. महेंद्र सिंह धोनी ने भी रिटायरमेंट के बाद अपने फॉर्म हाउस में खेती शुरू कर दी है. उनके फॉर्म हाउस में उगाए गए टमाटर और आलू बाजारों में बिक भी रहे हैं. किसान के पेशे से जुड़ने में एक नया नाम आर.माधवन का आया है. पर्यावरण के प्रति जागरूक रहने वाले माधवन ने अपने चचेरे भाई के साथ मिलकर एक बंजर भूमि को खेत में बदलकर नारियल उगा दिया है.

आर.माधवन ने अपने चचेरे भाई के साथ मिलकर पांच साल पहले तमिलनाडु​ स्थित एक गांव में बंजर भूमि को खरीद लिया. दोनों भाईयों ने मेहनत करके इस बंजर जमीन में जान डालकर यहां नारियल की खेती करने लगे. आलम यह है कि यहां के नारियल की बाजारों में खूब डिमांड है.

आर. माधवन से मिली जानकारी के मुताबिक, इस बंजर भूमि को खेत बनाने के लिए हमने काफी मेहनत की है. देसी चीजें और आधुनिक तरीकों का इस्तेमाल करके इस बंजर भूमि को नई ज़िंदगी दी है. माधवन अब अपने इस देसी तरीके को अन्य किसानों तक भी पहुंचाना चाहते हैं. ‘मेहनत का फल मीठा होता है’ इसे असली में साबित होते हुए मैंने अपनी आंखो से देख है. मेहनत के बलबूते हमने इस भूमि को ऐसा बना दिया कि यहां पक्षी की कलरव भी सुनाई देने लगी है. मीठे नारियल के छोटे—छोटे पेड़ देखकर एक अलग तरह की संतुष्टि मिलती है.

किसानी के अलावा माधवन ने अभी फिल्म ‘रॉकेट्री- द नंबी इफेक्ट’ फिल्म की शूटिंग पूरी कर ली है. यह इसरो वैज्ञानिक की ज़िंदगी पर आधारित है.

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -