Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

13 साल की उम्र में दिव्या ने शुरु किया बिजनेस, कुत्तों के लिए बनाई बोतल

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

बच्चों का दिमाग काफी तेज़ होता है, इसे साबित कर दिखाया है मुंबई की 13 वर्षीय दीया शेठ ने. इतने कम उम्र में दिया एक सफल उद्यमी बन गई हैं. दिया ने पालतू कुत्तों के लिए Slurrp-y हाइड्रेटिंग पानी की बोतल तैयार की है. डॉग प्रेमी दीया कहती हैं कि जो लोग कुत्ते से प्यार करते हैं उनके लिए उनकी खुशी ​बहुत अहम होती है.

कुत्ते को प्यासा देखकर हो जाती थी परेशान

जब मैं अपने कुत्ते को लंबी सैर के लिए कहीं ले जाती थी तो उसे पिलाने के लिए पानी की समस्या से जूझती थी. उसके साथ ज्यादा समय बिताने के लिए मैं उसे अपने साथ कहीं ज्यादा दूर नहीं ले जा सकती थी. यहीं से मुझे ​कुत्तों के लिए पानी की बोतल बनाने का आइडिया आया. यहीं से जन्म हुआ Slurrp-y बोतल का.

कुत्ते और बिल्लियों के लिए है ये बोतल

मुंबई के DY पाटिल इंटरनेशनल स्कूल की छात्रा दिया शेठ की ये बोतल कुत्ते और बिल्लियों दोनों के लिए हैं. इस बोतल की खासियत यह है कि इसमें पानी और खाना दोनों ही रखा जा सकता है. इसमें से कोई भी सामान लीक नहीं होता है. इसको साफ करने की भी कोई झंझट नहीं है. इसमें लगा हुआ कार्बन फिल्टर इसकी गंदगी और अशुद्धियों को दूर कर देता है.

बोतल के लिए मैन्युफैक्चर ढूंढना मुश्किल था

बोतल की अनूठी संरचना की वजह से मुझे मैन्युफैक्चर ढूंढने में बड़ी दिक्कत हुई ​थी लेकिन काफी परिश्रम के बाद भिवंडी का एक कारखाना मिला जो मेरी बोतल की मोल्ड डाई बनाने के लिए तैयार हुआ.

पैम्पलेट्स के जरिए की मार्केटिंग

अपने उत्पाद की मार्केटिंग के लिए मैंने अपने डॉगी को प्रशिक्षित करने वाले मलाइका कामोदिया का सहयोग लिया. मैंने अपने प्रोडेक्ट के pamphlets बनाकर गैर सरकारी संगठन को भेज दिए. कम पैसे में मैंने अपने प्रोडेक्ट की मार्किटिंग का रास्ता चुना.

अभी तक 200 बोतलें बेची हैं

मैंने इन बोतलों की कीमत 849 रुपये रखी है. अभी तक मैं 200 बोतलें ही बेची है. मेरे प्रोडेक्ट के बारे में जानने के बाद बहुत लोग इसे खरीदेंगे ऐसा मुझे विश्वास है. डॉग लवर की संख्या में दिन-ब-दिन बढ़ोत्तरी हो रही है.

खुद की वेबसाइट तैयार करना चाहती हूं

दीया कहती है कि मैं अपनी एक वेबसाइट तैयार करना चाहती हूं. हालांकि वेबसाइट के लिए मैंने रिसर्च शुरू कर दी हैं. बता दें कि उन्हें इस व्यवसाय में आए हुए 1 साल ही हुए हैं. हमारी शुभकामानाएं दिव्या के साथ हैं. वह एक दिन बड़ी बिजनेसवुमेन बनेंगी

.images-yourstry

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -