Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

बच्चे संभालने के लिए सीईओ ने छोड़ा 750 करोड़ का बोनस, बीवी शुरू करेगी नौकरी

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

बच्चे होने के बाद महिलाओं का करियर खत्म हो जाता है, कई महिलाएं इसी डर से बच्चा पैदा करने से कतराती हैं. लेकिन समय के साथ लोगों की सोच में बदलाव आ गया है. आजकल पति बच्चे होने के बाद अपनी पत्नियों का पूरा साथ देते हैं. इसका ताजा उदाहरण जर्मनी में देखने को मिला है, जहां एक सीईओ ने रुबिन रिटर ने 750 करोड़ रुपये का पैकेज छोड़ दिया है. रुबिन जर्मनी की सबसे बड़ी फैशन कंपनी जलांडो एसई के फाउंडर हैं. रुबिन ने घोषणा की है कि वह अगले साल अपनी पत्नी के लिए नौकरी छोड़ देंगे.

रिटर ने कहा कि मैं अपनी पत्नी के करियर को आगे बढ़ाने के लिए घर पर बैंठूगा. रिटर ने बच्चों की जिम्मेदारी उठाने के लिए नौकरी छोड़ने का फैसला किया है. हालांकि ऐसा देखने को कम ही मिलता है जहां पति नौकरी छोड़कर घर पर रहने को तैयार हो जाता है. हालांकि रिटर के इस फैसले का स्वागत करने के बजाय लोगं निंदा कर रहे हैं. लोगों का कहना है कि रिटर अपने ब्रैंड का प्रमोशन करने के लिए ये कदम उठाया है. रिटर ने बयान जारी करते हुए कहा कि, ’मैं और मेरी पत्नी ने मिलकर ये फैसला लिया है, अब समय आ गया है कि पत्नी अपने करियर पर ध्यान दें.

रिटर की पत्नी जज के पद पर कार्यरत हैं, उन्हें अपने बच्चों के पालन-पोषण के लिए नौकरी छोड़कर घर पर रहना पड़ा था. रिटर के इस फैसले को लोग सोशल मीडिया पर ड्रामा करार दे रहें हैं. लोगों का कहना है कि जो अपनी कंपनी में उच्च पद पर महिला अधिकारियों को जगह नहीं देता है वह अपनी पत्नी के लिए इतना बड़ा त्याग कैसा कर सकता है. बता दें कि कंपनी के बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स में महिलाओं के नहीं होने के कारण कंपनी को काफी आलोचना का सामना करना पड़ा था. ये कंपनी जेंडर असमानता को लेकर विवादों में हैं. इस कंपनी के बोर्ड आॅफ डायरेक्टर्स में सभी 5 पुरुष हैं. लोगों का कहना है कि रिटर ने अपनी कंपनी के प्रोडेक्ट के प्रमोशन के लिए ये कदम उठाया है.

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -