Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

युवक को पटक कर गाय ने लिया बदला, गाय को कर रहा था तंग

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

New Delhi: सडक़ पर चाहे स्ट्रीट डॉग हो या फिर दूसरे जानवर, इंसान उन्हें पत्थर मारकर खुश होता है। कोई उनसे क्यों नहीं पूछता कि अगर उन्हें कोई पत्थर से मारे तो उन्हें कैसा लगेगा। लेकिन जो लोग बेजुबानों पर प्रहार करते हैं, वह एक बात समझ ले कि जैसा वह कर्म करेंगे वैसा ही उनके साथ होगा। ऐसा ही एक मामला सामने आया है। जिसमें एक युवक गाय. को लात से मार रहा है, जबकि गाय शांत ्रखड़ी है। लात मारने से युवक का जब मन नहीं भरा तो उसने गाय की पूंछ खीचनी शुरु कर दी। लगातार युवक की ओर से गाय पर अत्याचार किया जा रहा था। इसी बीच गाय को भी गुस्सा आया, उसे युवक को पटक दिया और अपनी सींग के साथ हमला करने लगी। युवक को शायद यह समझ में आ गया होगा कि चोट सबको लगती है और दर्द भी सभी को होता है। बताते चले कि इस वीडियो को सोशल मीडिया पर आईएफएस अफसर प्रवीण अंगुसामी ने पोस्ट किया। उन्होंने केपशन भी लिखा कि देखिए कर्मा कैसे अपना हिसाब पूरा करता है।

Image tweeted by ifs praveen angusamy

 

सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो पर आई यह प्रतिक्रिया
सोशल मीडिया पर वायरल इस वीडियो पर लोगों की तरह-तरह की प्रतिक्रिया आने लगी हैं। एक यूजर कहते हैं कि इस वीडियो में लात मारने वाले शख्स के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। वहीं दूसरे यूजर लिखते हैं कि जैसी करनी वैसी भरनी। एक यूजर लिखती हैं कि भगवान ने इस लडक़े का साथ सही न्याय किया है। इस लडक़े को हवालात में होना चाहिए।

image tweeted by ifs praveen angusamy

जानवरों को मारने पर हो सकती है जेल व जुर्माना
स्ट्रीट डॉग या फिर किसी जानवर को मारने पर जेल व जुर्माना दोनों हो सकता है। मानद पशु कल्याण अधिकारी विक्रम कोचर बताते हैं कि वाइल्ड लाइफ एक्ट 1972 के तहत जानवर पर हमला करने वाले लोगों पर सख्त कार्रवाई के प्रावधान है। इस एक्ट के तहत छह माह की जेल व भारी जुर्माना भी तय किया गया है। वह बताते हैं कि लोगों को जागरूक होने की जरूरत है। उन्हें यह सोचना चाहिए कि जैसे वह जीवन जीते हैं, वैसे ही जानवर भी अपना जीवन जीते हैं।

 

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -