Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

पालतू डॉग की मौत ने बदल दी महिला की जिंदगी, 40 साल से करती आ रही हैं स्ट्रीट डॉग की देखभाल

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

New Delhi: हमारे समाज में भिन्न-भिन्न तरह के लोग रहते हैं। एक वो जो सडक़ पर घूमने वाले स्ट्रीट डॉग को बेवजह पत्थर मारकर चोटिल करते हैं। वहीं दूसरे लोग वह होते हैं जो स्ट्रीट डॉग की देखभाल करते हैं। क्योंकि वह बेजुबानों को जानवर नहीं समझते हैं। यहीं सोच उन्हें दूसरों से अलग करती हैं। आज बात ऐसी ही एक महिला की जिन्होंने स्ट्रीट डॉग की रखवाली करने को अपना मिशन बना लिया है। महिला का नाम विनीता अरोड़ा है। यह यूपी के आगरा में स्ट्रीट डॉग की देखभाल करती हैं।

ABP

40 साल से स्ट्रीट डॉग की करती हैं देखभाल
कभी-कभी जीवन में ऐसा भी होता है जब किसी की मौत से हमारी लाइफ स्टाइल चेंज हो जाती है। ऐसा ही हुआ एक महिला के साथ। दरअसल, यूपी के आगरा में विनीता अरोड़ा सडक़ पर घूमने वाले स्ट्रीट डॉग की देखभाल करती हैं। जानकारी के मुताबिक वह पिछले 40 साल से स्ट्रीट डॉग की देखभाल करती हैं। वह स्ट्रीट डॉग की सुरक्षा के लिए कैस्पर्स होम नाम की एक संस्था भी चलाती हैं। इस संस्था के जरिए वह बेसहारा और बेघर डॉग को सहारा देती हैं। विनीता बताती हैं कि उनका एक पालतू डॉग की मौत ट्रक की चपेट में आने से हुआ था। मैंने सोचा कि मेरे पालतू की तरह न जाने कि तने की स्ट्रीट डॉग सडक़ दुर्घटना के शिकार होते हैं, जिनमें कईयों की जान चली जाती है। इसलिए स्ट्रीट डॉग की देखभाल के लिए संस्था बनाई, जो सडक़ पर घूमने वाले स्ट्रीट डॉग की देखभाल करती है।

ABP

स्ट्रीट डॉग को मारने पर हो सकती है जेल व जुर्माना
मानद पशु कल्याण अधिकारी विक्रम कोचर बताते हैं कि अगर किसी क द्वारा स्ट्रीट डॉग को मारा जाता है, जिससे वह घायल होता है, और उसका कोई अंग खराब होता है तो आरोपी पर आईपीसी की धारा 428 के तहत दो साल की जेल व डॉग की जान जाने पर 429 के तहत पांच साल की जेल व जुर्माना दोनों हो सकता है। वह बताते हैं कि हालांकि स्ट्रीट डॉग को मारने पर महज 50 रुपये का फाइन है। जो कि बहुत कम है।

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -