Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

10 रुपये में पेटभर भोजन खाने के लिए दिल्ली वाले यहां लगाते हैं लंबी लाइन

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

New Delhi: मंहगाई चरम सीमा पर है। दो वक्त की रोटी खाने के लिए लोगों को कई मुश्किलों से होकर गुजरना पड़ रहा है। वहीं इन सबके बीच एक शख्स ऐसे भी हैं जो महज 10 रुपये में पेटभर भोजन खिला रहे हैं। पेटभर भोजन खाने के लिए इनके रेस्टोरेंट पर भारी भीड़ जुटती है। हालांकि लोगों की शिकायत है कि इस रेस्टोरेंट को रात में खोलना चाहिए। जिससे 10 रुपये में रात का खाना भी हो जाए। बताते चले कि यह रेस्टोरेंट फिलहाल दिन में ही खुलती है। दिल्ली के बाबरपुर मेट्रो स्टेशन के पास यह रेस्टोरेंट है। जहां लोगों को 10 रुपये में पेट भर भोजन खिलाया जाता है। खाने में चावल सब्जी, दाल, पूड़ी और भर प्लेट हलवा मिलता है। हालांकि वीकेंड पर मेन्यू में बदलाव रहता है।

image tweeted by kiran verma

कैसे हुई इस रेस्टोरेंट की शुरुआत
किरन वर्मा जो इस रेस्टोरेंट को चलाते हैं। वह बताते हैं कि लॉकडाउन में उनके एक दोस्त की नौकरी छूट गई। वह खाने के लिए मोहताज हो गया। जिसे देखकर मैंने सोचा कि मेरे दोस्त की तरह न जाने कितने ऐसे लोग होंगे जिनको खाना नसीब नहीं होता है। इसलिए मैंने यह रेस्टोरेंट खोला। वर्मा बताते हैं कि उन्होंने रेस्टोंरेट में काम करने के लिए 10 लोगों को नौकरी दी, जिनकी कोराना काल में नौकरी चली गई थी। वर्मा कहते हैं कि वह 10 रुपये इसलिए लेते हैं कि जिससे लोग स्वाभिमान के साथ खाना खा सके। साथ ही इन पैसों से वह अपने यहां काम करने वाले लोगों को सैलरी देते हैं। इस रेस्टोरेंट का महीने का 60 हजार रुपये पेय करते हैं।

क्या कहते हैं लोग
पेट भर भोजन 10 रुपये में खाने के बाद लोगों से उनकी प्रतिक्रिया जानी। एक शख्स जो बाबरपुर मेट्रो स्टेशन के पास ही काम करते हैं, वह बताते हैं कि खाना बेहद ही अच्छा होता है, दोपहर का खाना मैं यहीं खाता हूं। 50 साल के अनिल कहते हैं कि वह घर से लंच लाते थे। लेकिन अब यहीं पर बैठकर खाना खाते हैं.वह कहते हैं कि हम अन्य लोगों को भी यहां आकर खाने खाने की सलाह देते हैं। ज्यादतर लोगों का यहीं कहना था।

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -