Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

कभी सहना पड़ा था 6 लाख रूपये का घाटा, दोबारा शुरू की खेती और आज कमाते हैं लाखों में

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

भारत को कृषि प्रधान देश कहा जाता है लेकिन उसी कृषि प्रधान देश में ज़्यादातर युवा खेती के क्षेत्र में नहीं जाना चाहते क्यूंकि न तो खेती करना आसान है और न ही खेती से वह इतना पैसा कमा पाते हैं| लेकिन आज भी देश में कुछ ऐसे युवा हैं जो खेती कर अपने देश की जड़ो को सींच रहे है, जिनके लिए आज जितना जरूरी शिक्षित होना है उतना ही जरूरी अपनी भारत की संस्कृति को बचाए रखना भी है| आज ऐसे ही एक युवा के बारें में हम आपको बताने जा रहे है|

बहुत ही रोचक है अनुज शर्मा का सफर
अनुज शर्मा भारत के एक युवा हैं या दूसरे शब्दों में कहें तो वह भारत के भविष्य हैं| अनुज शर्मा उत्तराखंड के रुद्रपुर जिले के उधम सिंह नगर के निवासी हैं और पेशे से इंजीनियर भी है| अनुज शर्मा पढे-लिखे व्यक्ति है और साथ ही देश के लिए एक बहुत ही सराहनीय कार्य भी कर रहे हैं| आमतौर पर युवा पढ़-लिखकर किसी बड़ी कंपनी में नौकरी की तलाश में रहते है लेकिन अनुज शर्मा ने एक अच्छी नौकरी करने के साथ साथ किसान बनने का भी फैसला किया|

मात्र 3 हट से शुरू की थी मशरूम की खेती
अनुज शर्मा एक इंजीनियर तो हैं ही और वह अपने क्षेत्र में नौकरी भी कर रहे हैं लेकिन वह इंजीनियर के साथ-साथ एक किसान भी हैं और खेती-बाड़ी भी करते है| खेती-बाड़ी करना उनका खुद का एक बिज़नस है| जिसमें वह मशरूम की खेती करते हैं| शुरुआत में उन्होंने 3 हट में मशरूम की खेती करना शुरू किया था| उसके बाद उनका काम बढ़ता गया क्यूंकि उनकी मशरूम की गुणवत्ता काफी अच्छी थी| उसके बाद उन्होंने 9 हट में मशरूम उगाना शुरू कर दिया|

करना पड़ा था समस्याओं का सामना
यदि आप सफलता को पाना चाहते हैं तो यह निश्चित है कि आपके मार्ग में समस्याएँ जरूर आएंगी| लेकिन उन्हीं समस्याओं का सामना करके ही आप अपनी मंज़िल तक पहुँच सकते हैं| ऐसी ही समस्या अनुज के सामने भी आई जब अनुज की सफलता को देख उनसे द्वेष रखने वाले कुछ असामाजिक तत्वों ने उनके हट को जला दिया था जिसके कारण उनका 6 लाख का नुकसान हो गया था| लेकिन अनुज कभी कमजोर नहीं पड़े उन्होंने दोबारा खेती शुरू की और अपने बिज़नस को उचाइयों तक पहुंचाया|

आज कमाते हैं लाखों में, दूसरों को भी दी नौकरी
आज अनुज अपनी उगाई मशरूम को अलग-अलग मंडियों में बेचते हैं और साथ ही उनकी उगाई मशरूम थोक पर भी बिकती है| एक खास-बातचीत में अनुज ने बताया कि मशरूम को उगाने में करीब 1 लाख ररुपये तक का खर्चा आता है उसके बाद उसी खेती से 2.5 लाख रुपये तक की पैदावार निकलती है| काफी लंबा प्रोसैस होने के कारण अनुज ने कुछ और लोगों को भी अपने साथ जोड़ा और उन्हें नौकरी दी| आज अनुज लोगों को मशरूम उगाने का तरीका भी बताते हैं और साथ ही मशरूम की पैदावार के लिए सभी सामग्री को भी उचित दाम पर लोगों को उपलब्ध कराते हैं|

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -