Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

किसान आंदोलन: लो जी लो, खुल गई सैलून की दुकान, अब फ्री में किसान लेंगे सुविधा

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

New Delhi: सिंधु बॉर्डर पर फ्री में सैलून की दुकान खोली गई है। इस सैलून का लाभ सभी प्रदर्शनकारी किसान उठा सकते हैं। गुरुवार को खुले इस सैलून की दुकान में धरने पर बैठे किसानों ने शेव करवाया तो किसी ने अपनी नई हेयर स्टाइल बनवाई। खास बात यह रही कि जब से प्रदर्शनकारियों का यह पता चला कि फ्री में सैलून की सेवा मिलेगी। सेवा लेने के लिए किसानों के द्वारा लाइन तक लगा दी गई। गौर करने वाली बात यह है कि इस फ्री की दुकान लगाने वाले संचालक ने कहा कि उन्होंने यह दुकान किसान आंदोलन के समर्थन में खोली है। उन्होंने कहा कि वह कुरुक्षेत्र से आए हैं। कुरुक्षेत्र में उनके 90 फीसदी ग्राहक किसान ही होते थे। इसलिए वह किसानों के समर्थन में यहां आए हैं, और तब तक यहीं रहेंगे जब तक किसान आंदोलन चलता है। वह बताते हैं कि वह अपनी कुरुक्षेत्र की दुकान को बंद कर आए हैं। इस बीच वह किसी से पैसे नहीं लेंगे। सैलून संचालक ने कहा कि किसान अपनी मांगों को लेकर धरने पर हैं, उन्होंने कहा कि सरकार को किसानों की बात माननी चाहिए, और नओए कृषि कानून को वापस लेना चाहिए।

सैलून की दुकान खुलने पर क्या कहा किसानों ने
अपने बीच सैलून की दुकान खुलने के बीच किसानों ने कहा कि हमें खुशी है कि हमारे समर्थन में यह भाई अपनी रोजी-रोटी को त्याग कर यहां आए हैं। यह दिखाता है कि किसानों के साथ आज हर वर्ग का व्यक्ति जुड़ रहा है। वहीं दूसरे किसान कहते हैं कि रोजाना देश के किसी न किसी कोने से लोग हमारे पास आ रहे हैं, सभी लोग हमारा समर्थन कर रहे हैं।

बिना कानून वापस लिए नहीं जाएंगे
नए कृषि कानून को लेकर धरने पर बैठे किसानों ने कहा है कि वह सर्दी के मौसम में अपनी जान को दाव पर लगाकर बैठे हैं। सिर्फ इसलिए कि केंद्र सरकार ने जो कानून पास किया है उसे वापस लिया जाए। सरकार हमारी मांग मान लेती है तो हम वापस जाने के लिए तैयार है।

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -