Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

धरना स्थल पर नाचने लगे किसान, दूल्हे ने कहा हम इनका समर्थन करते हैं

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

New Delhi: सिंधु बॉर्डर पर दो सप्ताह से किसान डटे हुए हैं। नए कृषि कानून को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। इनकी संख्या दिन पर दिन बढ़ रही है। इस बीच धरना स्थल से कुछ ऐसी फोटो आई हैं। जिसमें किसान धरना छोड़ नाचने लगे हैं। किसानों की नाचने वाली फोटो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। जिसमें वह बारातियों के साथ ठुमके लगाते हुए नजर आ रहे हैं। दरअसल, सिंधु बॉर्डर से होते हुए एक बारात निकल रही थी। लेकिन किसानों की वजह से बारात को निकलने में दिक्कत हो रही थी। जिसे देखते हुए किसानों ने दूल्हे के साथ आए बाराती को दूसरी ओर जाने के लिए सिर्फ रास्ता ही नहीं दिया बल्कि उनके साथ उनकी खुशी में शामिल भी हुए। किसान बाराती बन नाचे और दूल्हे को उनके भविष्य की शुभकामनाएं भी दी। किसानों के द्वारा किए इस काम को लोग सोशल मीडिया पर सराहा रहे हैं। एक यूजर लिखते हैं कि किसानों ने दिल जीत लिया।

दूल्हे न कहा हम समर्थन करते हैं
घोड़ी पर चढ़ा दूल्हा उस वक्त परेशान हो गया था, जब उसे लगा कि किसान आंदोलन की वजह से वह शादी समारोह में नहीं जा पाएगा। लेकिन उसकी खुशी का ठिकाना तब नहीं रहा, जब किसान रास्ता रोकने की बजाय उसके साथ उसकी खुशी में शामिल हुए। दूल्हे ने कहा कि हम किसानों की मांग का समर्थन करते हैं।

क्या कहते हैं किसान
धरना स्थल पर डटे किसानों ने कहा कि हम अपनी मांगों को लेकर धरने पर हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि हम आपातकाल सेवा व किसी की बारात को रोकेंगे। उन्होंने कहा कि अगर यहां से किसी को जाना अत्यंत आवश्यक है तो वह रास्ता देंगे और संग में मदद करेंगे। गौर करने वाली बात यह है कि सरकार ने पहले ही कह दिया था कि प्रदर्शनकारी किसी भी आपातकाल सेवा को न रोके, और शादी के सीजन में किसी की बारात को भी न रोके।

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -