Thursday, April 22, 2021
- Advertisement -

सशस्त्र बलों के पूर्व अफसर ने उठाया गंगा को साफ करने का जिम्मा, 5100 किमी की करेंगे पदयात्रा

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

हमारे देश की जीवनदायिनी कही जाने वाली गंगा अब पहले की तरह निर्मल नहीं रही है. नदी में गंदगी डालकर लोगों ने इस अनिर्मल करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है.किसी भी देश के लिए उसकी नदी बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण होती है. लेकिन गंगा को देशवासियों ने इतना गंदा कर दिया है कि इसे साफ करना मुश्किल हो रहा है. वर्तमान सरकार ने तो गंगा स्वच्छ अभियान के लिए अलग से मंत्रालय भी बनाया था लेकिन जमीनी स्तर पर कोई ज्यादा बदलाव देखने को नहीं मिला. लोगों का इस नदी से अपनी मां की तरह जुड़ाव है. इसी जुड़ाव के कारण इसे साफ करने के लिए कई लोग फिर से सामने आए हैं.

गंगा नदी को बचाने और उसके पुनरुद्धार के लिए सशस्त्र बलों के पूर्व अधिकारी ने ‘अतुल्य गंगा पदयात्रा’ शुरू की है. इस यात्रा में इनका साथ देने के लिए गैर-सरकारी और व्यक्तिगत संगठन भी आगे आए हैं. ये पदयात्रा इलाहाबाद के प्रयागराज से शुरू होगी. ‘अतुल्य गंगा पदयात्रा’ के दौरान ये सभी लोग 5,100 किलोमीटर की यात्रा करेंगे. इनकी यात्रा में 45 शहर, 5000 गांव, जंगल, पहाड़ भी शामिल हैं.

Repersantive image-pixbay

आठ महीने तक चलने वाली इस यात्रा के दौरान लोगों को गंगा की सफाई के प्रति जागरूक किया जाएगा. इस यात्रा में शामिल होने वाले स्वयं सेवक संगठन के लोग गंगा को प्रदूषित करने वाले छोटे और बड़े नालों के अलावा सीवेज पंप का भी सर्वेक्षण करेंगे. इस यात्रा में आम नागरिकों को भी जोड़ा जाएगा. गंगा को साफ करने के लिए सशस्त्र बलों के पूर्व अधिकारियों द्वारा शुरू की गई ये यात्रा एक अनूठी पहल है. ये यात्रा अगले साल यानी 2021 में 14 अगस्त को खत्म होगी. इस यात्रा में शामिल होने वाले सभी संगठन के लोग अपनी यात्रा गंगा सागर और गौमुख की यात्रा करने के बाद यात्रा शुरू होने वाली जगह प्रयागराज में खत्म करेंगे.

Repersantive image-pixbay

पर्यावरण को दुरस्त करने के लिए इस यात्रा के दौरान पौधारोपण भी किया जाएगा. ‘अतुल्य गंगा पदयात्रा’ को सफल बनाने के लिए नेहरू युवा केंद्र, एनसीसी, ग्रीन इंडिया फाउंडेशन, गंगा सेवा मंच और प्रयागराज फाउंडेशन आगे आए हैं.

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -