Thursday, April 22, 2021
- Advertisement -

6 जनवरी से आप कर सकेंगे लिंगराज मंदिर के दर्शन, जहां शिव व विष्णु की एक साथ होती है पूजा

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

New Delhi: देवो के देव महादेव व शेषनाग पर विराजमान भगवान विष्णु भक्तों के लिए एक खुशखबरी है। वह नए साल से भुवनेश्वर स्थित लिंगराज मंदिर के दर्शन कर सकते हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार रविवार को इस मंदिक के कपाट मंदिर के सेवादारों व उनके परिजनों के लिए खोल दिया गया है। फिलहाल यहीं लोग मंदिर में प्रवेश कर सकते हैं, और पूजा-अर्चना कर सकते हैं। बता दे कि 23 दिसंबर को भक्तों के लिए जगन्नाथ मंदिर के कपाट भी खोले गए थे।

लॉकडाउन की वजह से मंदिर हुआ था बंद
कोराना महामारी के चलते देशभर में लॉकडाउन लगाया गया था। जिसकी वजह से भुवनेश्वर के इस प्रसिद्ध मंदिर में भी भक्तों के आने पर पाबंदी लगाई गई थी। जिसके बाद भक्तों को इंतजार था कि प्रशासन कब मंदिर के दरवाजे दर्शन के लिए खोलती है। बताते चले कि मंदिर के कपाट लगभग 9 माह बाद खुले हैं।

31 दिसंबर तक सेवादार करेंगे दर्शन
प्राप्त जानकारी के अनुसार इस मंदिर में सेवादार और उनके परिजन 31 दिसंबर तक दर्शन व पूजा अर्चना कर सकते हैं। इसके बाद शहर के लोगों को 3 जनवरी 2021 से पूजा करने की अनुमति दी जाएगी। वहीं शहर के बाहर से आने वाले लोगों को छह जनवरी से मंदिर में प्रवेश दिया जाएगा।

कोरोना नियम का पालन करने वाले लोग ही करेंगे दर्शन
प्राप्त जानकारी के अनुसार 1 जनवरी व 2 जनवरी को भक्तों के लिए मंदिर बंद रहेगा। क्योंकि इन दोनों दिन ज्यादा भीड़ जुटने की संभावना है। इस दौरान शहर की नगर निगम ने बताया है कि जिसकी कोराना रिपोर्ट नगेटिव आएगी उसे ही मंदिर में प्रवेश दिया जाएगा।

क्या है मंदिर का इतिहास
लिंगराज मंदिर भुवनेश्वर का मुख्य मंदिर है। इतिहासकार बताते हैं कि इसे 6वीं शताब्दी में बनाया गया था। साथ ही इसका उल्लेख ब्रहम पुराण में मिलता है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। खास बात यह है कि यहां पर शिव के साथ भगवान विष्णु की भी पुजा होती है।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -