Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

गोलकीपर ने किया ऐसा स्टंट कि बन गया इंटरनेट सनसनी, लोगों ने कहा फुटबॉल का मजाक मत बनाओ

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

New Delhi: इन दिनों सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें कुछ बच्चे फुटबॉल खेलते हुए नजर आ रहे हैं। वीडियो में आप देख सकते हैं कि खिलाड़ी फुटबॉल को गोल कराने के लिए किक मारते हैं, लेकिन गोलकीपर कभी अपने हाथ से तो कभी पैर से, शरीर के सभी अंगो का इस्तेमाल कर वह गोल होने से बचा लेता है। इस गोलकीपर का यही देसी अंदाज लोगों को लुभा रहा है। सोशल मीडिया पर लोग इस वीडियो को लेकर चर्चा कर रहे हैं। साथ ही एक दूसरे को शेयर भी कर रहे हैं। आप भी देखिए ये वीडियो

 वीडियो में आपने देखा कि ग्राउंड पर कुछ बच्चे फुटबॉल खेल रहे हैं। हालांकि गोलकीपर ने हर बार अपने देसी स्किल्स के सहारे गोल नहीं होने दिया। इस गोलकीपर के देसी अंदाज को देखते हुए उनका यह वीडियो एशियाई फुटबॉल परिसंघ के आधिकारिक पेज पर शेयर किया गया है।

चार बार गोल करने का प्रयास, पर गोलकीपर ने करने नहीं दिया
इस फुटबॉल मैच के वीडियो को एक और शख्स ने अपने ट्विटर हैंडल से शेयर किया है। नॉर्वे के डिप्लोमेट एरिक सोलहेम ने वीडियो पोस्ट किया। उन्होंने इसका केपशन भी लिखा। उन्होंने लिखा कि वाह इसे जरूर देखे, क्यों भारत फुटबॉल का विश्व कप नहीं जीत पा रहा है। एरिक ने यह वीडियो बीते दिनों पहले जारी किया था। जिसे अब तक 1.6 मिलियन से ज्यादा लोगों ने देखा है। साथ ही कई सारे कमेंट्स भी आए हैं।

वीडियो पर आ रही हैं प्रतिक्रिया
एक यूजर लिखते हैं कि एरिक कृप्या पहले आप फुटबॉल का सम्मान करे, इसका मजाक न बनाए। लडक़ों के पास संसाधन नहीं है कि वह अच्छे से फुटबॉल खेल सके। और आप अगर उस लडक़े जगह होते तो शायद गोल नहीं बचा सकते थे। एक यूजर लिखते हैं कि क्रिके ट को ज्यादा पंसद किया जाता है फुटबॉल की तुलना में। इसलिए भारत में फुटबॉल का उतना विकास नहीं हुआ, जितना कि होना चाहिए था।

source ndtv

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -