Monday, May 10, 2021
- Advertisement -

नागरकोटी को आंगन में क्रिकेट खेलने के लिए दादी डांटती थी, अब शाहरुख खान की टीम के मुख्य गेंदबाज

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

New Delhi: आईपीएल, जिसे पैसा लीग भी कहा जाता है। इस लीग में खिलाडिय़ों को मुंह मांगे पैसे देकर खरीदा जाता है। हालांकि 2008 से शुरु हुए इस लीग ने कई घरेलू क्रिकेटरों की जिंदगी बदल कर रखी दी। उन्हें नाम, पैसा तो मिला ही साथ ही टीम इंडिया में खेलने का मौका भी मिला। आज बात ऐसे ही उभरते तेज गेंदबाज की जिसे उम्मीद है कि वह बहुत जल्द टीम इंडिया के लिए खेलेगा। इस तेज गेंदबाज का नाम है कमलेश नागरकोटी। नागरकोटी फिलहाल आईपीएल में शाहरुख खान की टीम केकेआर के मुख्य गेंदबाज हैं।

kamlesh nagarkoti

साल 2020 में उन्होंने केकेआर के लिए खेलते हुए कई विकेट भी अपने नाम किए। लेकिन नागरकोटी को बचपन में क्रिकेट खेलने पर दादी डांटती थी। क्योंकि वह घर के आंगन में कपड़े की बॉल बनाकर क्रिकेट खेलते थे, साथ ही बॉस्केट बॉल भी खेलते थे। जिससे उनकी दादी नाराज हो जाती थी। इंटरनेशनल क्रिकेटरों के साथ खेलना नागरकोटी के लिए एक मील का पत्थर साबित हुआ है। बताते चले कि आईपीएल से निकलकर ही टी. नटराजन भारत व ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए टी-ट्वेंटी में डेब्यू किया था।

kamlesh nagarkoti

अंडर-19 विश्व कप खेल चुके हैं नागरकोटी
भारत के तेज गेंदबाज जिनकी गेंद जब हाथ से छूटती है तो बल्लेबाजों को ऐसा प्रतीत होता है कि सामने से कोई बुलेट ट्रेन चली आ रही है। नागरकोटी ने साल 2018 के अंडर-19 विश्व कप में 150 की तेज रफ्तार से बल्लेबाजों को परेशान किया था। साथ ही भारत को विश्वकप दिलाने में मुख्य भूमिका निभाई थी।

kamlesh nagarkoti

यहां के रहने वाले कमलेश नागरकोटी
28 दिसंबर 2000 को उत्तराखंड के बागेश्वर जिले में तेज गेंदबाज कमलेश नागरकोटी का जन्म हुआ। उनके पिता आर्मी में थे और सूबेदार के पद से रिटायर हुए थे। कमलेश को उनके रिश्तेदार प्यार से बिट्टू कहकर बुलाते थे। हालांकि जब कमलेश महज चार साल के थे तब परिवार उत्तराखंड से निकलकर राजस्थान में आकर रहने लगा। जयपुर से ही कमलेश ने शिक्षा हासिल की। इसी बीच उन्हें स्पोर्टस में रूचि हुई।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -