Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

हेलमेट मैन, जो बांटते हैं फ्री में हेलमेट, इस काम के लिए घर भी बेच दिया

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

New Delhi: यह खबर उन लोगों के लिए जो सडक़ पर दो पहिया वाहन चलाने के दौरान हेलमेट पहनना अभिशाप समझते हैं। खासतौर पर युवा वर्ग। उन्हें ऐसा लगता है कि हेलमेट पहनने से बाइक चलाने का मजा खत्म हो जाता है। लेकिन युवा को इस बात को समझना चाहिए कि हेलमेट आपकी सुरक्षा करता है वाहन चलाने के दौरान। एक आंकड़े के मुताबिक भारत में साल 2017 में सडक़ दुर्घटना में 35, 975 लोगों की मौत हुई। वहीं साल 2018 के आंकड़ों के मुताबिक 43, 600 लोगों की मौत हुई। फिर भी लोग अंजान बन बिना हेलमेट के ही चलते हैं। लेकिन आज बात करेंगे एक ऐसे शख्स की जिन्होंने हेलमेट को ही अपना जीवन बना लिया। वह अपने दोस्त की मौत से आज तक नहीं उभर पाए हैं, क्योंकि उनके दोस्त की मौत एक बाइक हादसे में हुई थी। इसके बाद उन्होंने दोस्त के परिवार को टूटते हुए देखा था। जिसके बाद उन्होंने फैसला किया कि वह लोगों को जागरूक करेंगे कि वह वाहन चलाते समय हेलमेट जरूर पहने।

india times hindi

केंद्रीय मंत्री कर चुके प्रशंसा
लोगों को जागरूक करने वाले शख्स का नाम है राघवेंद्र। राघवेंद्र ऐसे शख्स हैं जिन्होंने लोगों को फ्री में हेलमेट पहनाने के लिए अपना घर बेच दिया। राघवेंद्र की इस मुहिम को सडक़ परिवहन मंत्री नितिन गडक़री भी सराहा चुके हैं। साथ ही अन्य समाजिक कार्यक्रमों में राघवेंद्र को सम्मानित किया जा चुका है।

कहां से आते हैं राघवेंद्र
राघवेंद्र बताते हैं कि वह घर में सबसे छोटे हैं, उनसे बड़े तीन भाई हैं। वह बताते हैं कि उनके जन्म के दौरान उनका परिवरा बेहद गरीब था। पिता राधेश्याम सिंह खेती कर घर का गुजारा करते थे। आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी नहीं थी कि उन्हें अच्छी शिक्षा मिल सके। हालांकि फिर भी उन्हें स्कूल भेजा गया था। 10वीं-12वीं के बाद परिवार के पास पैसे नहीं थे कि उन्हें आगे बढ़ा सके।

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -