Tuesday, May 11, 2021
- Advertisement -

हेलमेट मैन, जो बांटते हैं फ्री में हेलमेट, इस काम के लिए घर भी बेच दिया

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

New Delhi: यह खबर उन लोगों के लिए जो सडक़ पर दो पहिया वाहन चलाने के दौरान हेलमेट पहनना अभिशाप समझते हैं। खासतौर पर युवा वर्ग। उन्हें ऐसा लगता है कि हेलमेट पहनने से बाइक चलाने का मजा खत्म हो जाता है। लेकिन युवा को इस बात को समझना चाहिए कि हेलमेट आपकी सुरक्षा करता है वाहन चलाने के दौरान। एक आंकड़े के मुताबिक भारत में साल 2017 में सडक़ दुर्घटना में 35, 975 लोगों की मौत हुई। वहीं साल 2018 के आंकड़ों के मुताबिक 43, 600 लोगों की मौत हुई। फिर भी लोग अंजान बन बिना हेलमेट के ही चलते हैं। लेकिन आज बात करेंगे एक ऐसे शख्स की जिन्होंने हेलमेट को ही अपना जीवन बना लिया। वह अपने दोस्त की मौत से आज तक नहीं उभर पाए हैं, क्योंकि उनके दोस्त की मौत एक बाइक हादसे में हुई थी। इसके बाद उन्होंने दोस्त के परिवार को टूटते हुए देखा था। जिसके बाद उन्होंने फैसला किया कि वह लोगों को जागरूक करेंगे कि वह वाहन चलाते समय हेलमेट जरूर पहने।

india times hindi

केंद्रीय मंत्री कर चुके प्रशंसा
लोगों को जागरूक करने वाले शख्स का नाम है राघवेंद्र। राघवेंद्र ऐसे शख्स हैं जिन्होंने लोगों को फ्री में हेलमेट पहनाने के लिए अपना घर बेच दिया। राघवेंद्र की इस मुहिम को सडक़ परिवहन मंत्री नितिन गडक़री भी सराहा चुके हैं। साथ ही अन्य समाजिक कार्यक्रमों में राघवेंद्र को सम्मानित किया जा चुका है।

कहां से आते हैं राघवेंद्र
राघवेंद्र बताते हैं कि वह घर में सबसे छोटे हैं, उनसे बड़े तीन भाई हैं। वह बताते हैं कि उनके जन्म के दौरान उनका परिवरा बेहद गरीब था। पिता राधेश्याम सिंह खेती कर घर का गुजारा करते थे। आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी नहीं थी कि उन्हें अच्छी शिक्षा मिल सके। हालांकि फिर भी उन्हें स्कूल भेजा गया था। 10वीं-12वीं के बाद परिवार के पास पैसे नहीं थे कि उन्हें आगे बढ़ा सके।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -