Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

प्लास्टिक की बोतल का इस्तेमाल कर IRS ने लुधियाना में बनाए वर्टिकल गार्डन

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

New Delhi: कभी आपने सोचा है कि जिन बोतलों को हम कूड़ेदान में फेंक देते हैं, या फिर सडक़ पर फेंकने से गुरेज नहीं करते हैं, उससे कितनी मात्रा में वायू प्रदूषण फैलता है। वायू प्रदूषण जिससे अस्थमा के मरीजों को सबसे ज्यादा परेशानी होती है और बच्चों व महिलाओं को प्रदूषण के दौरान सांस लेने में तकलीफ होती है। फिर भी हम प्लास्टिक का इस्तेमाल अपनी भलाई के लिए नहीं कर पाते हैं। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे आईआरएस अधिकारी के बारे में बताएंगे, जिन्होंने अपने बच्चे व शहर को स्वच्छ हवा देने के लिए एक मुहिम छेड़ दी है। दरअसल,बेकार पड़ी प्लास्टिक की बोतलों से भी कुछ नया काम किया जा सकता है। इसका ताजा उदाहरण दिया है एक आईआरएस अधिकारी ने। इस अधिकारी ने बेकार पड़े प्लास्टिक की बोतल का इस्तेमाल कर लुधियाना में वर्टिकल गार्डन बनाया है। इस अधिकारी का नाम है रोहित मेहरा। जो आयकर विभाग में अतिरिक्त आयुक्त के पद पर तैनात है। बताते चले कि अधिकारी रोहित मेहरा ने इस तरह के वर्टिकल गार्डन स्कूलों, कॉलेजों, गुरुद्वारों, चर्चों, पुलिस स्टेशनों, सरकारी कार्यालायों और रेलवे स्टेशनों में बनाए हैं।

70 टन प्लास्टिक का किया इस्तेमाल
रोहित मेहरा बताते हैं कि उन्होंने लुधियाना में वायु प्रदषण को कम करने के लिए उन्होंने 70 टन बेकार प्लास्टिक की बोतलों का इस्तेमाल कर वर्टिकल गार्डन बनाया गया है।

वर्टिकल गार्डन बनाने के पीछे मकसद
अधिकारी बताते हैं कि चार साल पहले उनके बच्चे ने कहा था कि वायू प्रदूषण की वजह से स्कूल में छुट्टी की घोषणा की गई है। बच्चे की बात मेरे दिमाग में घूमने लगी। मैंने सोचा कि क्या मैं अपने बच्चे को स्वच्छ हवा भी नहीं दे सकता। वर्टिकल गार्डन बनाने की सोच वहीं से आई।

लोग भी हो जागरूक
रोहित मेहरा बताते हैं कि इस तरह का अभियान चलाने के पीछे सिर्फ इतना मकसद है कि लोग भी अपने घरों में इसकी प्रतिकृति बना सके। गौर करने वाली बात यह है कि रोहित लुधियाना में ग्रीन मैन के रुप में काफी लोकप्रिय है।

 

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -