Wednesday, May 19, 2021
- Advertisement -

सड़क पर भीख मांगने वाले जयावेल की पलटी किस्मत, कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में मिला एडमिशन

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

किसी इंसान के सितारे जब बुलं​दी पर होते हैं, तो वह सड़क से उठकर सीधा आसमान में उड़ने लगता है. ऐसा ही कहानी है चेन्नई के रहने वाले JAYAVEL की. बचपन में सिर से पिता का साया उठ जाने के बाद JAYAVEL सड़क पर भीख मांगकर अपना गुजर-बसर करते थे. उनकी किस्मत ने कुछ ऐसा मोड़ लिया कि आज वह यूनाइटेड किंगडम में अपनी पढ़ाई कर रहे हैं.

सड़क से अमेरिका तक का रास्ता बेहद कठिन

तीन भाई-बहनों में सबसे बड़े JAYAVEL जब तीन वर्ष के थे तभी उनके पिता का निधन हो गया था. पिता के निधन के बाद उनकी माता शराब पीने लगी जिसकी वजह से वह बच्चों का ख्याल नहीं रख पाती थी. बच्चे सड़क पर भीख मांगने का मजबूर हो गए. लेकिन सुयम चैरिटेबल ट्रस्ट के संस्थापक, उमा और मुथुराम ने इनकी ज़िंदगी को बदल कर रख दिया. उमा और मुथुराम ने इन तीन भाई—बहनों का एडमिशन सिरगु मॉन्टेसरी स्कूल में करा दिया. स्कूल में एडमिशन मिलने के बाद इन भाई—बहनों ने पीछे मुड़कर नहीं देखा. 12 वीं पास करने के बाद JAYAVEL ने कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में एडमिशन के लिए एंट्रेस दिया जिसमें वह पास हो गए और उन्हें कार से जुड़े एक कोर्स में Glyndwr University में एडमिशन मिल गया. यहां से कोर्स खत्म करने के बाद अब JAYAVEL ने फिलिपिंस में विमान मेंटीनेंस टेक्नोलॉजी से जुड़े कोर्स में एनरॉल किया है.

स्ट्रीट चाइल्ड के लिए करूंगा काम

JAYAVEL का कहना है कि पढ़ाई के लिए जो लोन लिया था उसे चुकाने के बाद मैं अपनी मां के लिए घर बनाउंगा और उसके बाद अपना पूरा पैसा सड़कों पर भीख मांगने वाले बच्चों की ज़िंदगी में बदलाव के लिए लगा दूंगा. सुयंम एनजीओ को अपने आपको समर्पित कर दूंगा. मैं अभी जो भी हूं इस संस्था के संस्थापक उमा और मुथाराम की वजह से ही हूं.

JAYAVEL की स्टोरी काफी प्रेरणादायक है. इस कहानी को पढ़ने पर एहसास हो रहा है कि किसी की ज़िंदगी में बदलाव लाया जा सकता है. अगर आपको लगता है कि आप किसी ज़िंदगी में बदलाव करने के काबिल हैं तो देर ना करें. आज से ही शुरुआत कर दीजिए.

सुयंम एनजीओ ने कई गरीब बच्चों की किस्मत बदल दी है. चेन्नई की सुंयम फाउंडेशन सड़क पर भीख मांग रहे बच्चों को अपने स्कूल में एडमिशन देकर उनका भविष्य सुधारते हैं.

source-The better india

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -