Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

काला कौआ बन गया घर का सदस्य, नाम है कुकु, रहता है तीसरी मंजिल पर

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

New Delhi: काला कौआ अगर घर की छत पर आ जाए तो लोग उसे भगाने के लिए दौड़ पड़ते हैं। लोगों की सोच ऐसी है कि काला कौआ के द्वारा होने वाली ध्वनि प्रदूषण से घर में मुसीबत आती है। इसलिए काले कौआ को देखते ही लोग उसे भगाने लगते हैं। बहरहाल, आज आपको हम एक ऐसे परिवार के बारे में बताने जा रहे हैं, जो काले कौआ को भगाने की जगह उसे घर का सदस्य ही बना लिया है। नायगांव में ग्रेस परिवार रहता है जो इस काले कौआ को घर में पालतू की तरह रखते हैं। खास बात यह है कि इसका नाम कुकु रखा गया है। बताते चले कि कुकु परिवार के साथ तीसरी मंजिल पर रहता है और यहीं खाता है और पीता है संग सोता भी यहीं पर है।

कुकु हिन्दी व मराठी में मिलने वाले निर्देशों को समझता है
कुकु यूं तो पूरे दिन घर के चारों और घूमता है। उसके लिए बालकनी में एक कटोरे में पानी व खाना भी रखा जाता है। जब कुकु का मन करता है वह खाना खाता है, और पानी पीता है। मजे की बात यह है कि वह हिन्दी व मराठी भाषा में मिलने वाले निर्देशों को भलीभांति समझता भी है। परिवार की सदस्य, रिटायर नर्स एस्तेर ग्रेस कहती हैं कि वह घर के बच्चों की तरह की कुकु का ख्याल रखती हैं।

कई बार छोड़ आए, पर वो लौट आता था
परिवार के सदस्य बताते हैं कि जब कुकु पहली बार उड़ के घर आया था तो वह उसकी आंखों के पास रेंगने वाले नाइट जीव थे। इसे तुरंत चिकित्सक के पास ले जाया गया। जहां उपचार के बाद जब यह स्वस्थ्य हुआ तो इसे बालकनी में रखकर छोड़ दिया। कुकु उडक़र अपनी दुनिया में चला गया। लेकिन कुछ दिनों बाद वह लौट आया। इसके बाद परिवार के सदस्य ने तय किया कि वह अब उनके साथ ही रहेगा।

source the times of india

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -