Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

बिहार के लाला ने अमेरिका में किया देश का नाम रोश्न, मिला 2.5 करोड़ का स्कॉलरशिप

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

बिहार में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है, इसका ताजा उदाहरण पेश किया है 19 वर्षीय ऋतिक राज ने. बिहार से सबसे ज्यादा आईएस अधिकारी निकलते हैं. बिहार वीरों की भूमि होने के अलावा ज्ञान की भी भूमि हैं. बिहार की भूमि पर जन्मे कालिदास ने अपने ज्ञान से पूरे देश में अपनी पहचान बनाई है. अब इसी धरती के एक और पुत्र ने अपनी ज्ञान का लोहा मनवाते हुए अमेरिका में अपने देश और राज्य का परचम फहराया है.

पढ़ाई में काफी होशियार ऋतिक राज को वाशिंगटन डीसी की जॉर्ज टाउन यूनिवर्सिटी ने 2.5 करोड़ रुपये की स्कॉलरशिप दी है. बताया जा रहा है कि स्कालरशिप देने वाली यूनिवर्सिटी ऋतिक के 4 साल की पढ़ाई और रहने का खर्चा देगी.

आरूप छात्रवृत्ति पाने वाले ऋतिक रेडिएंट स्कूल के छात्र हैं. पटना के गोला रोड में रहने वाले ऋतिक का सेलेक्शन 21300 छात्रों में से हुआ है. इस स्कॉलरशिप के लिए 1600 सीटें थी. ऋतिक इससे पहले भी कई प्रतियोगिताओं में भाग ले चुके हैं. उन्होंने अमेरिका के मशहूर येल विश्वविद्यालय और थाईलैंड में आयोजित डिबेट प्रतियोगिता में भी देश का नाम रोश्न किया था.

ऋतिक की इस सफलता से उनके परिवार वालों के साथ पूरे मोहल्ले के लोग बेहद खुश हैं. ऋतिक के करीबियों का कहना है कि हमें इस बच्चे पर पूरा विश्वास था कि इसे ये स्कॉलरशिप मिल जाएगी. ऋतिक ने हम सभी का नाम रोशन किया है, हमें इस पर बेहद गर्व है. पटना जिले के मखदूमपुर गांव में रहने वाले ऋतिक भी अपनी इस सफलता को लेकर बेहद खुश हैं.

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -