Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

पिता के लिए कभी बैलगाड़ी चलाई, फिर अपनी मेहनत के दम पर बने इस एयरलाइंस के मालिक

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

New Delhi: कुछ करने का जज्बा इंसान को रंक से राजा बना देता है। बस चाहिए कुछ करने के लिए हिम्मत। आज की कहनी ऐसे ही शख्स की। जिन्होंने अपने जीवन में कभी गिव अप नहीं किया। परिस्थिति कैसी भी आई, उन्होंने डटकर मुकाबला किया। बचपन में पिता की मदद करने के लिए बैलगाड़ी भी चलाई। लेकिन कभी उन्होंने नहीं सोचा था कि वह एक दिन चलकर एयरलाइंस के मालिक बनेंगे। जी हां आपने ठीक पहचाना हम बात कर रहे हैं कि कैप्टन गोपीनाथ की। गोपीनाथ वहीं शख्स हैं, जिन्होंने आम लोगों को यह सपना दिखाया कि वह भी हवाईजहाज में बैठकर सफर कर सकते हैं। हालांकि बैलगाड़ी से लेकर एयरलाइंस के बीच गोपीनाथ का सफर काफी कठिन रहा।

कर्नाटक के रहने वाले हैं
साल 1951 में कर्नाटक के गोरूर के छोटे से गांव में गोपीनाथ का जन्म हुआ। उनके 8 भाई-बहन थे। उनके पिता के लिए यह काफी कठिन हो चला था कि वह सभी की जरूरतों को पूरा कर सके। उनके पिता किसान होने के साथ शिक्षक भी थे। साथ ही कन्नड़ उपन्यासकार भी थे। गोपीनाथ की पढ़ाई वहीं हुई। इसके बाद वह सिपाही बनने के लिए साल 1962 में बीजापुुर स्थित सैनिक स्कूल में दाखिला लिया। इसके अलावा उन्होंने राष्ट्रीय रक्षा अकादमी परीक्षा पास की। जिसके बाद उनका चयन भारतीय वायु सेना में हुआ। जहां उन्होंने आठ साल काम किया। महज 28 साल की उम्र में रिटायर हो गए। इसके बाद उन्होंने कई नौकरी तलाशी, लेकिन कहीं सफलता नहीं मिली। उन्होंने अपना डेयरी फार्मिंग सहित अन्य व्यापार करना चाहा, पर सभी में उनको निराशा ही हाथ लगी।

पत्नी की सारी ज्वैलरी, और दोस्तों की मदद से खड़ा हुआ डेक्कन
गोपीनाथ एयरलाइंस से संबंधित कुछ बड़ा करने की सोच रहे थे। लेकिन उसे पूरा करने के लिए पैसे की कमी आ रही थी। जिसे पूरा करने के लिए उनकी पत्नी ने सारी ज्वैलरी व दोस्तों ने अपनी एफडी से पैसा निकालकर दिया। जिसके बाद कैप्टन गोपीनाथ ने साल 1996 में डेक्कन एविएशन नाम से एक चार्टर्ड हेलीकाप्टर सेवा शुरु की। साल 2003 में 48 सीटों और दो इंजन वाले छह फिक्स्ड-विंग टबॉप्रॉप हवाई जहाजों के बेडे के साथ एयर डेक्कन की स्थापना की। बताते चले कि पहली उड़ान इस एयरलाइंस से हुबली से बेंगलुरु के बीच भरी गई थी। हालांकि शुरुआती दिनों में 1 से 2 हजार लोग सफर कर रहे थे। लेकिन आने वाले कुछ वर्षों में 20 हजार से ज्यादा लोग सफर करने लगे। इस एयरलाइंस की खास बात यह रही कि अन्य एयरलाइंस की तुलना में यात्रियों को कम पैसे में टिकट मिली। जिससे इनकी एयरलाइंस में यात्रियों की बढ़ोतरी होने लगी। वहीं यात्रियों के लिए 24 घंटे कॉल सेंटर सेवा शुरु की गई। जिससे यात्री जब चाहे टिकट बुक करवा सकते हैं।


.

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -