Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

सफेद दाग वाली लड़की से लोग करते थे नफरत, आज समाज में फैला रही है पॉजिटिविटी

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

मुंबई में रहने वाली 26 वर्षीय शालिनी ने अपनी कमजोरी को अपने करियर के बीच में नहीं आने दिया. इसी का नतीजा है कि आज वह एक सफल बिजनेसवुमेन बन गई हैं. लोगों के बीच पॉजिटिवटी लाने के लिए शालिनी ने ‘पॉजिटिव चॉकलेट बाय शालिनी’ बिजनेस शुरू किया. शालिनी ने बताया इसे शुरू करने का मेरा मकसद बस इतना है कि लोग अपने आप से प्यार करना सीख लें. अपनी कमियों पर ध्यान ना दें.

Dainik bhaskar

शालिनी का बचपन दूसरे बच्चों की तुलना में बेहद अलग था. जब शालिनी 9 साल की थीं तो उनके स्किन पर सफेद दाग नज़र आने लगे थे. उनके माता—पिता को लगा कि ये कोई आम बीमारी है लेकिन जब डॉक्टर के पास ले गए तो पता चला कि इन्हें ल्यूकोडर्मा है. यह एक तरह से स्किन से जुड़ी समस्या है. शालिनी बताती हैं कि जब परिवार के सदस्य को ल्यूकोडर्मा के बारे में पता चला तो मेरे प्रति सबका व्यवहार ही बदल गया. मेरे पैरेंट्स मुझे शर्मिंदगी की वजह से अपने आप साथ कहीं भी ले जाना पसंद नहीं करते थे. मुझे ये सब देखकर बहुत बुरा लगता था. अपनी ज़िंदगी से तंग आकर शालिनी ने लोगों की सुननी बंद कर दी और अपने लिए जीना शुरू किया. सेल्फ डेवलपमेंट की ट्रेनिंग लेने के बाद शालिनी ने अपने आप से निश्चय किया कि मैं कुछ ऐसा बिजनेस शुरू करूंगी, जो समाज में पॉजिटिवटी लाएगा. शालिनी ने 2019 में ‘पॉजिटिव चॉकलेट बाय शालिनी’ की नींव रखी. चॉकलेट प्रेमी शालिनी डार्क चॉकलेट अपने ग्राहकों को ख़ास अंदाज में देती हैं. वह चॉकलेट के साथ लोगों के लिए कागज पर संदेश भी लिखती हैं. चॉकलेट से ज्यादा ग्राहक उनके मैसेज़ के फैन हो गए हैं.

Repersantive image

शालिनी को जो बीमारी है, उसे आम भाषा में सफेद दाग कहते हैं. आज भी लोग इस बीमारी से पीड़ित होने वाले शख्स के साथ उठना-बैठना पसंद नहीं करते हैं. शालिनी ने लोगों को मैसेज देते हुए कहा कि कभी भी अपनी कमजोरियों को छोड़कर आगे ना बढ़ें, उसे लेकर आगे बढ़ें. लोग क्या कहेंगे इसकी परवाह ना करें.

 

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -