Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

रूबी को मिला कॉप ऑफ द मंथ का खिताब, स्निफर डॉग की मदद से सुलझाया गया था का केस

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

New Delhi: कई बार ऐसा भी होता है जब क्राइम केस को सुलझाने में बड़े से बड़े पुलिस अधिकारी भी मात खा जाते हैं। जब उनके सामने कोई दूसरा रास्ता नहीं होता तो वह मदद लेते हैं अपने सुपर टेलेंटेड डॉग की, जो जिस क्राइम सीन पर ही नहीं दिखाई देते बल्कि, क्राइम से जुड़े केसों को भी बड़ी आसानी से सुलझा लेते हैं आपने कई फिल्मों में देखा भी होगा। बहरहाल, आज बात ऐसे ही एक डॉग की जिसकी मदद से छत्तीसगढ़ पुलिस ने एक केस सुलझा लिया। जिस डॉग की मदद से केस को सुलझाया गया, उस डॉग को सिन्फर डॉग कहते हैं और उसका नाम रूबी है। रूबी को कॉप ऑफ द मंथ के खिताब से नवाजा जाएगा।

representation image pixbay

बताते चले कि यह पहली बार है जब किसी डॉग को यह ख्रिताब दिया जा रहा है। इससे पहले यह अवॉर्ड किसी डॉग के नाम नहीं था। हालांकि छत्तीसगढ़ पुलिस ने इस डॉग के अलावा दो पुलिसकर्मियों को भी कॉप ऑफ द मंथ के लिए चुना है।

reprentation image pixbay

इस डकैती को सुलझाने में की थी मदद
पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों के मुताबिक स्निफर डॉग रूबी ने रॉयल गिरी विलास पैलेस में हुई डकैती व कई सनसनीखेज आपराधिक मामलों को सुलझाने में हमारी मदद की है। डकैती में जहां कई लाख रुपये के प्राचीन चांदी के ट्रे चोरी हो गए थे। रायगढ़ के एसपी संतोष कुमार सिंह ने कहा कि प्रशिक्षित कैनाइन के द्वारा हमें महत्वपूर्ण सुराग मिले, जिसे हमे केस को सुलझाने में मदद मिली। बताया जाता है कि रायगढ़ जिले की पुलिस अक्सर चार साल की रूबी और उसे संभालने वाले कांस्टेबल वीरेंद्र आनंद की सहायता लेती है। खास बात यह है कि पहली बार है जब किसी पुलिस के डॉग को सम्मान दिया गया है। गौर करने वाली बात यह है कि डीजीपी डीएम अवस्थी के कहने पर छत्तीसगढ़ पुलिस ने हाल में ही उन पुलिसकर्मियों की पहचान की थी जिन्होंने ड्यूटी के दौरान अच्छा प्रदर्शन किया था। ऐसे पुलिसकर्मियों को सामान्य कार्यो से बाहर उन्हें कॉप ऑफ द मंथ पुरस्कार से नवाजा जाता है। नगद पुरस्कार के अलावा उनकी फोटो संबंधित जिले में उनकी छवियां प्रदर्शित की जाती है।

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -