Wednesday, May 12, 2021
- Advertisement -

बेटा होता रहा फेल, पिता देते रहे हौसला और आखिर में शिक्षक भर्ती में बेटे ने कर लिया टॉप

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

New Delhi: फेल होना भी कभी-कभी जरूरी है। फेल होने के बाद ही हमे पता चलता है कि पास होने के लिए कड़ी मेहनत की जरूरत होती है। इसका जीता जागता उदाहरण बने हैं एक शख्स जो एक बार नहीं बल्कि 11 बार सरकारी परीक्षा में फेल हुए। फिर भी पास होने की लगन लगातार बरकरार रखी। इसी का नतीज है कि वह आज स्टेट परीक्षा में टॉप कर उन लोगों के लिए मिसाल बन गए हैं, जो फेल होने की वजह से अपने मार्ग से भटक कर दूसरी राह पकड़ लेते हैं। इस शख्स का नाम है गणेशाराम, जो राजस्थान में भारत-पाक के बॉर्डर पर बसे बाइमेर जिले का रहना वाला है।

शिक्षक बनने का सपना बुना था
बाइमेर का रहने वाला गणेशाराम ने शिक्षक बनने का सपना बुना था। वह भी तब जब घर के हालात ठीक नहीं थे। घर में पढ़ाई को लेकर इतनी जागरूक ता नहीं थी, फिर भी इस शख्स को विश्वास था कि वह शिक्षक बन अपने परिवार व अन्य लोगों की सोच को बदल सकता है.चूंकि इस युवा ने आज शिक्षक भर्ती में बाइमेर में पहला स्थान पा लिया तो वहीं जोधपुर में दूसरा स्थान पर रहा है। इसकी सफलता के चर्चे अब जिले में हो रही है।

शिक्षक भर्ती में टॉप करने से पहले ऐसा था जीवन
बाइमेर के गणेशाराम के 9 भाई-बहन थे। वह अपने भाई-बहनों में इकलौता ऐसा सदस्य बन गया, जिसने पढ़ाई की है। बाकी भाई-बहन पढ़ नहीं पाए हैं। लेकिन गणेशाराम ने हिम्मत नहीं हारी और पढ़ाई की। हालांकि इस दौरान पिता का साथ भी मिला।

चिमनी की रौशनी में पढ़ते थे
परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी, तो गणेशाराम अपनी पढ़ाई चिमनी की रौशनी में करते थे। हालांकि लोगों को भी लगता था कि एक दिन वह सफलता जरूर पाएगा।

11 बार फेल
गणेशाराम ने थर्ड ग्रेड शिक्षक परीक्षा में तीन बार, सेकेंड ग्रेड में तीन बार व फस्र्ट ग्रेड में पांच बार असफल हुआ। इतनी बार असफलता के बाद भी युवक का हौसला कम होने की बजाय ओर भी मजबूत हुआ। हालांकि परिवार की आर्थिक स्थिति की वजह से उसके सफर में रुकावट जरूर आई। लेकिन पिता हमेशा उसे हौसला देते रहे।

स्टेट परीक्षा में आई 18वीं रैंक
बार-बार फेल होने के बाद वह पल आया जब गणेशाराम ने राजस्थान लोक सेवा आयोग(आरपीएससी) की ओर से आयोजित फस्र्ट ग्रेड शिक्षक भर्ती परीक्षा में 18वां रैंक हासिल किया। इस सफलता के बाद गणेशाराम कहते हैं कि बार-बार फेल होने के बाद ही पता चलता है कि पास कैसे होना है।

source news 18
.

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -