Thursday, April 22, 2021
- Advertisement -

मात्र 250 रुपए से शुरू किया था बिजनेस, आज हैं 84 हजार करोड़ रुपए की कंपनी के मालिक, जानिए इनके बारे में

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...
Sanjay Kapoorhttps://citymailnews.com
Sanjay kapoor is a chief editor of citymail media group

गरीबी इतनी कि पैसे ना होने की वजह से बहन का निधन हो गया। परिवार का पूरा जीवन मुफलिसी में व्यतीत हुआ। घर चलाने के लिए मिली नौकरी भी चली गई, इसके बावजूद इस शख्स ने हौंसला नहीं छोड़ा। मात्र 250 रुपए में एक छोटा से कमरा किराए पर लेकर शुरू किया बिजनेस और कठोर परिश्रम तथा अपनी सूझबूझ के दम पर 84 हजार रुपए की कंपनी खड़ी कर दी। जी-हां यह प्रेरणा दायक कहानी है सिक्यूरिटी एंड इंटेलिजेंस सर्विसेज इंडिया प्रा. लि. कंपनी के मालिक एवं राज्यसभा सदस्य आर.के. सिन्हा की।

Rk sinha/facebook

गरीब परिवार में हुआ था आर.के. सिन्हा का जन्म-
आर.के. सिन्हा का जन्म बिहार के एक लोअर मिडिल क्लास फैमिली में हुआ था। देश और विदेश की जानी मानी पत्रिका फोब्र्स ने आर के सिन्हा की पूरी जीवनी को प्रकाशित किया है। इसमें बताया गया था कि पैसों की तंगी की वजह से ईलाज ना होने पर सिन्हा की बहन की मृत्यु हो गई थी।

टे्रनी पत्रकार के रूप में मिली थी नौकरी
वर्ष 1971 में सिन्हा जब 20 वर्ष के थे, तब उन्होंने एक दैनिक अखबार में प्रशिक्षु पत्रकार के तौर पर नौकरी की। इस दौरान भारत-पाक के बीच जंग की रिर्पोटिंग के लिए उन्हें सीमा पर जाना पड़ा था। इस दौरान ही सिन्हा ने भारतीय सेना में अपना पूरा नेटवर्क खड़ा कर लिया।

जेपी आंदोलन के चलते छूट गई थी सिन्हा की नौकरी
वर्ष 1974 में सिन्हा को जेपी आंदोलन से जुडऩे की वजह से नौकरी से हाथ धोना पड़ा था। इसके बाद सिन्हा ने सेना में अपने दोस्तों की मदद से एक कंपनी शुरू करने का फैसला लिया। मगर उनके पास मात्र 250 रुपए ही थे। इसके बावजूद उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और एक कमरा किराए पर लेकर कंपनी की स्थापना की। जिसका नाम सिक्यूरिटी एंड इंटेलिजेंस सर्विसेज इंडिया प्रा. लि. कंपनी रखा गया।

देश की सबसे बड़ी सुरक्षा कंपनी बनी
आज यह कंपनी वर्षों की मेहनत के बाद भारत की निजी सुरक्षा क्षेत्र में काम करने वाली सबसे बड़ी संस्था बन गई है। बीते फाईनेंस ईयर में 20 प्रतिशत की ग्रोथ के साथ यह कंपनी करीब 84 हजार करोड़ रुपए की हो गई है। फिलहाल यह कंपनी भारत के साथ साथ विदेशों में भी बड़े स्तर पर काम कर रही है। आस्टे्रलिया, न्यूजीलैंड और सिंगापुर सहित अनेक देशों में इसका विस्तार हो चुका है।
हौंसला है तो कुछ भी नामुमकिन नहीं
कहते हैं कि जिस व्यक्ति में हौंसला, जज्बा और कठोर परिश्रम करने की ललक हो तो वह एक ना एक दिन तरक्की के मार्ग पर जरूर बढ़ता है। आर.के. सिन्हा की यह कहानी भी उन नौजवानों के लिए पे्ररणा है, जोकि अपनी मेहनत के बल पर कुछ बड़ा करना चाहते हैं। सिटीमेल न्यूज श्री सिन्हा की कठोर तपस्या को नमन करता है।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -