Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

पुराने टीवी सेट में रहेंगे स्ट्रीट डॉग, न लगेगी ठंड़, मिलेगा भरपूर खाना

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

New Delhi: अकसर देखा गया है कि स्ट्रीट डॉग की तुलना में पालतू डॉग का विशेष ध्यान रखा जाता है, पालतू के लिए खाने के साथ रहने के लिए उचित व्यवस्था भी की जाती है। लेकिन सडक़ पर घूमने वाले स्ट्रीट डॉग अपने लिए न ही भोजन की व्यवस्था कर पाते हैं, और न ही उनके रहने का ठिकाना होता है। ऐसे में जब सर्दी का मौसम शुरु होता है तो कई स्ट्रीट डॉग ठंड़ की वजह से मर भी जाते हैं। बहरहाल आज बात ऐसे एक शख्स की जिसने स्ट्रीट डॉग के खाने व सर्दियों में रहने के लिए एक स्मार्ट तकनीक का इस्तेमाल किया है। उन्होंने घर के पुराने टीवी को शेल्टर का रूप दिया है। जिसमें आराम से स्ट्रीट डॉग रह सकते हैं, साथ ही इस नए घर में उनके खाने के लिए भी प्रबंध किया है। जिस शख्स ने यह काम किया है वह असम के रहने वाले हैं और उनका नाम शिवसागर है।

क्या कहते हैं शिवसागर
शिवसागर कहते हैं कि इस शेल्टर में स्ट्रीट डॉग आसानी से रह सकते हैं उनके लिए खाने के प्रबंध किए गए हैं। उन्होंने कहा कि मैंने इस शेल्टर के माध्यम से कोशिश की है कि स्ट्रीट डॉग को किसी भी तरह से ठंड़ न लगे। उन्होंने बताया कि उन्हें डॉग काफी पसंद हैं, और उनका भाई कुछ दिन पहले एक डॉग का बच्चा लेकर आए थे। उन्होंने घर में उसके रहने के लिए एक घर बनाया, और कई राते निगरानी की वह कैसे उस घर में रहता है। इस तरह के काम को देखते हुए शिवसाग का हौसला बढ़ाने के लिए स्थानीय पशु चिकित्सक भी मदद करने के लिए पहुंचे।

 

वह बताते हैं कि उन्हों ने कोविड के दौरान महिलाओं के लिए टॉर्च व कई ऐसे उपकरण बनाए जिससे महिलाएं खुद को कोविड से बचा सकती हैं। गौर करने वाली बात यह है कि शिवसागर के इस पहल के बाद आस-पास के लोग भी अपने पुराने टीवी को फेंकने की बजाय स्ट्रीट डॉग के इस्तेमाल के लिए डोनेट करने लगे। बताते चले कि शिवसाग के इस अच्छी पहल को सोशल मीडिया पर भी सराहा जा रहा है। लोग कह रहे हैं कि शिवसागर बहुत अच्छा काम कर रहे हैं।

source the new indian express

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -