Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

घर लौट आए प्रवासी पक्षी, IAS अफसर ने शेयर की फोटो

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

New Delhi: दिल्ली-एनसीआर के अलावा पूरे भारत में शीतलहर का प्रकोप चल रहा है। तापमान का पारा लगातार 5 डिग्री से कम चल रहा है। जिसकी वजह से ठिठुरन वाली ठंड के बीच लोगों को अपना जीवन व्यतीत करना पड़ रहा है। हालांकि इस बीच बर्ड वाचरों के लिए खुशखबरी भी आई है। सर्दियों के मौसम में प्रवासी पक्षी भारत की ओर रुख करने लगे हैं। इन प्रवासी पक्षियों को देखकर बर्ड वाचर भी खुश हैं। उन्हें लगता है कि इस साल कुछ नए प्रजाति के पक्षी भी देखने को मिल सकते हैं।

आईएएस ने टविटर पर डाली फोटो
ट्विटर पर डॉ. एमवी राव ने प्रवासी पक्षियों की कुछ फोटोज पोस्ट की है। उन्होंने लिखा कि पश्चिम बंगाल के उत्तर दिनाजपुर जिले में रायगंज इलाके में स्थित कुलिक बर्ड सेंचुरी में 164 तरह के प्रवासी पक्षियों ने अपना डेरा बनाया है। उन्होंने प्रवासी पक्षियों की दो फोटो भी डाली है।

दिल्ली आने पर यहां ठहरते हैं प्रवासी पक्षी
दिल्ली-एनसीआर में यूं तो प्रदूषण के कारण ज्यादा संख्या में प्रवासी पक्षी नहीं आ पाते हैं, लेकिन ओखला बर्ड सेंचुरी व यमुना किनारे कुछ ऐसे पक्षी दिखाई देरहे हैं जो यहां आए थे गर्मियों के दिनों में और अब तक यहीं के होकर रह गए।

दिल्ली जू पहुंचे पेंटेड स्टॉर्क
दिल्ली चिडिय़ाघर में भी काफी संख्या में पेंटेड स्टॉक यानि की प्रवासी पक्षी पहुंचे हैं। रंग-बिरंगे पक्षियों ने अपना डेरा जू के एक तालाब के ऊपर बनाया हुआ है। अब यह मार्च तक यहीं रहेंगे, इस बीच इन्हें जू प्रशासन की ओर से खाने के लिए मछली भी दी जाएगी। जू प्रवक्ता रियाज खान बताते हैं कि सर्दियों के दिन में हर साल हिमालय रेंज से प्रवासी पक्षी आते हैं। और मार्च महीने के भीतर में वह कई बच्चों को जन्म भी देते हैं।

बर्ड वाचर रखेंगे नए पक्षियों पर नजर
बर्ड वाचर पंकज गुप्ता बताते हैं कि अभी तक कोई नई प्रजाति की पक्षी नहीं देखी गई है। हालांकि हमारी नजर रहेगी कि किसी नई प्रजाति के पक्षी को अपने कैमरे में कैद किया जाए।

 

 

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -