Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

पीएम ने की मन की बात तो किसानों ने बजाई थाली,बोले कृषि कानून को भगाएंगे

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

New Delhi: देशभर में किसान आंदोलन के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को अपने कार्यक्रम मन की बात के जरिए अपनी बात रखी। जिस पर किसानों ने थाली बजाकर अपना विरोध जताया है। बता दे कि साल 2020 में मन की बात का आखिरी एपिसोड था। किसानों ने थाली बजाकर कहा है कि जिस तरह से पीएम ने कोरोना काल में कहा था कि थाली बजाने से कोराना भागेगा, वैसे ही हमने फिर से थाली बजाई है। इससे नया कृषि कानून भागेगा. और हम आखिरी दम तक इसे भगाकर रहेंगे।

दिल्ली में गृह मंत्री ने किसानों के साथ सुना, मन की बात
पीएम ने मन की बात में पीएम किसान योजना सहित अन्य योजना जो किसानों के लिए चलाई जा रही है, उन पर बात रखी। दिल्ली में गृह मंत्री अमित शाह ने महरौली में किसानों के साथ पीएम की मन की बात सुनी, फिर संबोधित भी किया।

29 दिसंबर को किसान नेता कर सकते हैं मुलाकात
किसान नेता राकेश टिकैट ने कहा कि सरकार ने अब तक सिर्फ बिल में संशोधन के संकेत दिए हैं। हम 29 दिसंबर को सरकार के साथ मुलाकात करेंगे। उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है कि पीएम मोदी व कृषि मंत्री किसानों की भलाई के लिए यह बिल वापस ले। जिससे किसान भाईयों के लिए भी यह नया साल मंगलमय हो

किसान नेता को मिली धमकी
किसान नेता राकेश टिकैत को जान से मारने की धमकी मिली है। किसान नेता राकेश टिकैत ने बताया कि उन्हें बिहार से किसी अज्ञात का फोन आया था। फोन पर उसने जान से मारने की धमकी दी है। टिकैत ने बताया कि उन्होंने पुलिस को रिकॉडिंग भेज दी है। अब वह तय करें, उन्हें क्या करना है।

किसान आंदोलन बरकरार
नए कृषि कानून को लेकर किसानों का आंदोलन बरकरार है। किसान सिंधु बॉर्डर, टिकरी बॉर्डर पर डटे हुए हैं। किसानों का कहना है कि जब वह सर्दी से नहीं घबराए तो फिर आने वाली गर्मी से कौन डरता है।

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -