Wednesday, May 12, 2021
- Advertisement -

मां-दादी के नक्शेे कदम पर चला यह पुलिसवाला, गरीबों की मदद के लिए खर्च कर देता है अपनी सैलरी

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

New Delhi: हमारे समाज में पुलिस की छवि ज्यादा अच्छी नहीं है। लोगों की नजर में पुलिस की छवि एक भ्रष्ट व्यक्ति से ज्यादा कुछ नहीं, जो लोगों की समस्या को सुलझाने की बजाय उलटा उनसे ही रिश्वत लेती हैं। नहीं देने पर पीटती भी है। हालांकि कभी-कभी कुछ पुलिसवाले ऐसा भी काम करते हैं, जो खाकी को शर्मिंदा करती है तो कुछ पुलिसवाले कुछ हद तक पुलिस की छवि को सुधारने का काम भी करते हैं। आज बात ऐसे ही पुलिसवाले की जो ईमानदार होने के साथ ही साथ वह गरीबों की मदद के लिए हमेशा तैयार रहता है। इस पुलिसवाले का नाम कृष्ण मूर्ति है, और वह श्रीकाकुलम में हेड कांस्टेबल पद पर तैनात है।

अपनी सैलरी के पैसों से गरीब लोगों की करते हैं मदद

new indian express


पार्वतीपुरम शहर के पुलिस थाने में कृष्ण मूर्ति बतौर हेड कांस्टेबल तैनातहैं। वह विभिन्न मुद्दों पर लोगों की समस्या का समाधान करते हैं.वहीं गरीबों व बुजुर्गों की भी मदद करते हैं। कृष्णा मूर्ति श्रीकाकुलम जिले के वीरगट्म मंडल के कोट्टुगुमड़ा गांव के निवासी है, जो अपने गांव के साथ-साथ दूसरे गांव के गरीबों की मदद करते हैं।

हर माह गरीबों को राशन व सर्दियों में देते हैं गर्म कपड़े

representation image pixabay


कृष्ण मूर्ति बताते हैं कि वह अपनी सैलरी में से हर माह गरीब लोगों को राशन पहुंचाते हैं, वहीं अभी सर्दियों का मौसम है तो बुजुर्ग लोगों को ठंड से बचाने के लिए उन्हें कंबल भी दिए जाते हैं। उन्होंने बताया कि वह महीने में जरूरतमंद लोगों की लिस्ट बनाते हैं, जिसके आधार पर महीने की सैलरी आने के बाद उनके लिए सामान खरीदते हैं।

सैलरी के पैसों से खरीदता है सामान

represntation image pixabay

कृष्ण मूर्ति बताते हैं कि वह अपनी सैलरी में से 10 हजार रुपये हर महीने निकालते हैं, जिनसे वह जरूरतमंद लोगों के लिए सामान खरीदते हैं। वह बताते हैं कि साल 2017 से वह गरीब लोगों की मदद करने का काम कर रहे हैं।

माता-पिता व दादी को देख, मैंने भी शुरु किया
कृष्ण मूर्ति कहते हैं कि बचपन के दिनों में गांव में उनके माता-पिता व दादी गरीब लोगों की मदद करते थे। सर्दियों में गरीब लोगों को कंबल देते थे। बस यहीं से मुझे भी लगा कि जब मैं बड़ा हो जाऊंगा तो मैं भी गरीब लोगों की मदद करूंगा। वह बताते हैं कि जब वह पुलिस लाइन में आए तो इस काम को करना शुरु कर दिया। मूर्ति ने दो माह के भीतर पार्वतीपुरम में और इसके आस-पास के इलाकों में 60 से ज्यादा कंबल दान किए हैं।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -