Monday, May 10, 2021
- Advertisement -

शिक्षक से किसान बने इस शख्स ने फल और सब्जियां उगाकर कमा लिए करोड़ों रुपये

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

New Delhi: नए कृषि कानून को लेकर किसान धरने पर हैं, वहीं आज बात एक ऐसे किसान की जिन्होंने फल व सब्जियां उगाकर कर करोड़ों रुपये कमा लिए है। इस शख्स का नाम है अमरेंद्र प्रताप सिंह। सिंह मूलरुप से उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले के दौलतपुर गांव के रहने वाले हैं। हालांकि अमरेंद्र पहले एक शिक्षक थे। लेकिन बाद में उनकी रूचि किसान बनने की ओर बढ़ी। फिलहाल वह परिवार के साथ लखनऊ में रहते हैं। अमरेंद्र बताते हैं कि उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि वह शिक्षक की लाइन छोड़ कभी खेतों में काम करेंगे। उन्होंने बताया कि साल 2014 में स्कूल की छुट्टी के दौरान उन्हें खेती करने का विचार किया। वह बताते हैं कि उन्होंने पारंपरिक खेती की जगह फल व सब्जियों की पैदावार की। हालांकि खेती करने से पहले उन्होंने इसकी जानकारी जुटाई, उन्होंने यूट्यूब पर कई वीडियो देखे, जिसके बाद उन्होंने फैसला किया कि वह पारंपरिक खेती की जगह फल व सब्जियों की खेती करेंगे। क्योंकि अकसर किसी भी फसल को उगाने के लिए किसान को काफी समय लगता है। गेंहू इसका सटीक उदाहरण है।

logically

एक एकड़ जमीन पर केले की खेती
अमरेंद्र बताते हैं कि उन्होंने एक एकड़ की जमीन पर केले की खेती की है। जिसमें उन्हें सफलता मिली। जिसके बाद उन्होंने तरबूज, खरबूज और आलू की खेती की। साथी ही अदरक. फूलगोभी और हल्दी की भी खेती की। हालांकि पहली फसल के दौरान उन्हें मुनाफा नहीं हुआ। अमरेंद्र इस बात से निराश नहीं हुए और पूरी मेहनत के साथ खेती करने लगे। दूसरी बार की फसल में उन्हें मुनाफा हुआ। बताते चले कि अमरेंद्र सालाना 30 लाख रुपये की कमाई कर रहे हैं।

फसल में इस तकनीक का करते हैं इस्तेमाल
अमरेंद्र बताते हैं कि वह पौधों को पानी देने के लिए फ्लड इरीगेशन तकनीक की जगह ड्रिप इरीगेशन का इस्तेमाल से सिंचाई करते हैं। वह बताते हैं कि इस तकनीक का इस्तेमाल वह बाकी किसानों को भी समझाते हैं। फिलहाल उनके साथ 350 किसान जुड़े हुए हैं। अमरेंद्र बताते हैं कि इस तकनीक से 60 दिन में उत्पादन प्राप्त होता है।

शिक्षक की नौकरी, यह काम शुरु होते छोड़ देंगे
अमरेंद्र बताते हैं कि उन्होंने फूड प्रोसेसिंग के लिए लाइसेंस मिल गया है। हालांकि अभी इस पर काम अभी शुरु नहीं हुआ है। जैसे ही शुरु होगा वह शिक्षक की नौकरी छोडऩे पर विचार करेंगे।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -