Monday, May 10, 2021
- Advertisement -

प्रेस करके यह महिला कमाती है, 4 लाख रुपये, इस्त्रीपेटी के जरिए करती है प्रेस

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

जब आप किसी से पहली बार मिलने जाते हैं, तो आप अपने कपड़े पर विशेष ध्यान देते हैं ना! और देना भी चाहिए. अंग्रेजी में कहावत हैं ना, ‘फस्र्ट इंप्रेशन इज लास्ट इंप्रेशन’. जब आपका पहली बार किसी से सामना हो तो ऐसा हो कि आप उस आदमी को अपना दीवाना बना लें. व्यवहार से पहले लोग हमें कपड़े को देखकर जज करते हैं. इसलिए जरूरी है कि जब आप कहीं जाए तो कपड़े साफ-सुथरे और प्रेस किए हो. कई बार ऐसा होता है कि हमारे सबसे फेवरेट कपड़े को धोबी या प्रेस करने वाले उसे खराब कर देते हैं, जिससे हमारा मन दुखी हो जाता है. धोबी से बहस करने के अलावा हमारे पास दूसरा कोई आॅप्शन भी तो नहीं है लेकिन संंध्या नांबियार आपके ​लिए आॅप्शन लेकर बाज़ार में आ गई हैं.

बिजनेस शुरू करने का आइडिया कहां से आया

संध्या बताती हैं कि एचआर की नौकरी के दौरान कई बार कपड़ों को लेकर धोबी के साथ मेरी बहसबाजी हो जाती थी. मेरा दिमाग में आया कि यह परेशानी केवल मेरी नहीं है, मेरे जैसे कई लोग इस समस्या से जूझते होंगे. यहीं से मेरे दिमाग में लॉन्ड्रिंग का बिजनेस शुरू करने का आइडिया आया. मेरी जैसी सोच वाले कुछ और दोस्त मेरे साथ आए यहीं से शुरू होगा इस्त्रीपेटी का काम. मेरी कोशिश रहती है कि मैं अपने ग्राहकों को ऐसी सर्विस दूं कि उनका मन खुश हो जाए.

कैसे काम करता है, इस्त्रीपेटी

इस्त्रीपेटी का एक ऐप भी है, ​जिसके जरिए यह लोगों के घर, आॅफिस से कपड़े लाकर उसे धोकर, इस्त्री करके बतायी जगह पर डिलीवर कर देता है. यह हॉस्पिटैलिटी सेक्टर में भी सर्विस देता है. इस स्टार्टअप को सबसे बड़ी कामयाबी तब मिली जब ओयो रूम्स और कंपास जैसी कंपनियों ने सर्विस के लिए हाथ मिलाया.

स्टीम आयरनिंग है, बेहद अलग

लॉन्ड्री जैसे कारोबार को शुरू करने और उसे आगे बढ़ाने के लिए काफी चुनौतियों का सामना करना पड़ता है. सबसे बड़ी चुनौती, लोगों को अपने काम के बारे में समझाना था. स्टीम आयरनिंग को लेकर लोग जागरूक नहीं है, उन्हें इसके बारे में जानकारी देना भी मेरे लिए बेहद कठिन था. हमने लोगों की जेब के अनुसार प्राइस रखे थे. सबसे अहम चीज या कहें कि व्यापार का मूलमंत्र जिसे मैंने बनाया था, वह था कपड़ों की क्वालिटी. मैं लोगों के कपड़ों की क्वालिटी का विशेष ध्यान रखती थी. मेरी कोशिश रहती है कि मैं अपने ग्राहकों को ऐसी सर्विस दूं कि उनका मन खुश हो जाए.

दो कर्मचारियों से शुरू हुआ था बिजनेस

शुरुआती दौर में इस्त्रीपेटी के पास 2 कर्मचारी थे लेकिन अब 15 कर्मचारी हमारे साथ काम कर रहे हैं. लोगों को हमारा काम पसंद आ रहा है. आज हमारे साथ 350 ग्राहक जुड़े हैं. हम अपना काम पूरी इमानदारी से कर रहे हैं इसलिए हमें उम्मीद है कि हमारे ग्राहकों की संख्या दिन-ब-दिन बढ़ती ही जाएगी. हमारे यहां 3 किलो कपड़े की धुलाई और इस्त्री के लिए 300 रुपये चार्ज किए जाते हैं.

2017 में 2 लाख रुपये से शुरू होने वाली इस्त्रीपेटी की औसत महीने की कमाई 4 लाख रुपये है. स्टार्टअप की नींव रखने वाली संध्या एक इंटरव्यू में बताती हैं कि मेरा लक्ष्य 4 लाख को जल्दी ही 5 लाख रुपये करने का है. आपको बता दें कि इस्त्रीपेटी अपनी सर्विस चेन्नई के ही कुछ शहरों में दे रहा है.

 

source-yourstry

 

 

 

 

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -