Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

पैडमैन के नाम से मशहूर हुए चंबल के दो भाई, दो रुपये में देते हैं पैड, नेपाल से मिलने लगा ऑर्डर

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

New Delhi: फिल्म स्टार अक्षय कुमार की फिल्म पैडमैन आई थी। आपने देखी ही होगी। आज बात ऐसे ही दो भाई की जिन्हें पैडमैन के नाम से जाना जा रहा है। यह दोनों भाई महिलाओं को सैनिटरी नैपकिन इस्तेमाल करने के साथ अपनी फैक्ट्री में सस्ती नैपकिन बना कर महिलाओं को उपलब्ध करवा रहे हैं। इन दोनों भाईयों का सैनिटरी नैपकिन का व्यापार काफी चल रहा है। इसका अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि उन्हें अब नेपाल से भी ऑर्डर मिल रहे हैं। भिंड के मनेपुरा गांव में रहने वाले अनुराह बोहरे व विराग वोहरे सैनिटरी नैपकिन बनाने का काम कर रहे हैं।

aaj tak

महिलाओं को कर रहे हैं जागरूक
बताया जाता है कि जिस चंबल में महिलाएं घूंघट से बाहर नहीं निकल पा रही थी। वहां इन दोनों भाईयों ने सैनिटरी नैपकिन का इस्तेमाल करना सिखाया है। खास बात यह है कि दोनों भाई बिना किसी डर के महिलाओं को जागरूक करने का काम कर रहे हैं।

aaj tak

जयपुर के गांव से मिला भाईयों को सुझाव
सोलर ट्रेनिंग के लिए दोनों भाई जयपुर के एक गांव में गए थे। यहां उन्होंने महिलाओं को पैड बनाते देखा था। जब उन्होंने महिलाओं से बात की तो महिलाओं ने बताया कि उनके द्वारा बनाए गए पैड काफी कमजोर होते हैं। इसलिए महिलाएं इन्हें इस्तेमाल करने से बचती रहती हैं। इसके बाद दोनों भाई ने सोच लिया कि वह महिलाओं की परेशानी दूर करेंगे और अच्छे पैड बनाएंगे। दोनों भाईयों ने ऐसी मशीनी तैयार कर ली कम कीमत में अच्छी क्वालिटि के पैड बनाता है। बाजार में बिकने वाले पैड की तुलना में उन्होंने अपने पैड की कीमत महज दो रुपये रखा। जबकि बाजारों में एक पैड की कीमत 8 से 10 रुपये थी। दोनों भाई बताते हैं कि परिवार के लोगों ने सहयोग किया, परंतु दूसरे लोग मजाक करते थे।
नेपाल से मिल रहे हैं ऑर्डर
दोनों भाई बताते हैं कि उनके द्वारा तैयार की गई सैनिटरी नैपकिन की सप्लाई नेपाल में भी हो रही है। नेपाल से इन्हें प्लांट लगाने के ऑर्डर आ रहे हैं। खास बात यह है कि दोनों भाई को सपोर्ट करने के लिए उनकी बहन भी आगे आ गई है। पूजा बोहरे फैक्ट्री में काम करने वाली महिलाओं को सैनिटरी नैपकिन का इस्तेमाल करना साथ ही उनसे इस विषय पर खुलकर बात करती हैं।

 

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -