Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

दिल्ली पुलिस के दो दोस्तों ने पास की UPSC परीक्षा, एक हैं IPS और एक दिल्ली के बनेंगे ACP

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

New Delhi: भगवान के भरोस जो बैठते हैं वो हमेशा अपने जीवन में खाली ही बैठते हैं, क्योंकि भगवान भी उनकी ही मदद करते हैं जो खुद की मदद करना चाहते हैं। बहरहाल आज बात ऐसे दो दोस्तों की जिन्होंने जीवन में कड़ी मेहनत कर ऐसा मुकाम हासिल किया। जिसे देखकर उनके सहयोगी भी कह रहे हैं हम भी बड़ा अफसर बनेंगे। जी हां दिल्ली पुलिस में कांस्टेबल की नौकरी करने वाले दो दोस्त जिनका सपना था कि वह भी एक दिन बड़े अधिकारी बनेंगे। दोनों ने इस सपने को साकार कर लिया है। एक आईपीएस बना है तो दूसरा एसीपी बनने वाला है। हालांकि कांस्टेबल से लेकर बड़ा अधिकारी बनने के बीच दोनों के संघर्ष की कहानी आपको यह सोचने पर विवश कर देगी कि दुनिया में सबकुछ मुमकिन है। बस सच्ची लगन से मेहनत करने की जरूरत है। दिल्ली पुलिस में नौकरी करने के बाद अधिकारी बने दोनों शख्स का नाम है विजय सिंह गुर्जर और फिरोज आलम। चलिए जानते हैं इसके बारे में

विजय ने 2017 में पास की यूपीएससी परीक्षा
विजय सिंह दिल्ली पुलिस में बतौर कांस्टेबल साल 2010 में लगे। उन्हें दिल्ली के विभिन्न जिलों में काम करने का अनुभव प्राप्त किया। हालांकि इस बीच वह प्रतियोगी परीक्षा में भी शामिल होते रहे। उन्होंने साल 2017 में 574वीं रैंक लाकर यूपीएससी पास कर ली। बताते चले कि विजय को गुजरात कैडर मिला है। वह मौजूदा समय में गुजरात के भावनगर में एसीपी पद पर तैनात हैं।

फिरोज आलम ने गत वर्ष पास की यूपीएससी परीक्षा
फिरोज भी विजय की तरह दिल्ली पुलिस में कांस्टेबल की नौकरी करते थे। उनका भी सपना था कि एक दिन बड़े अधिकारी बने। साल 2019 में उन्होंने अपने सपने को पूरा करते हुए 645वीं रैंक लाकर यूपीएससी की परीक्षा पास की है। बताते चले कि फिरोज को दिल्ली, अंडमान और निकोबार, द्वीप समूह पुलिस सेना कैडर मिला है। इसके बाद वह दिल्ली में ही बतौर एसीपी बनेंगे। दिसंबर माह में वह डीएएनपी के लिए ट्रेनिंग पर जाएंगे।

यूपीएससी पास करने के बाद क्या कहते हैं फिरोज
डीएएनपी के लिए ट्रेनिंग पर जाने से पहले फिरोज अपने संघर्ष के दिनों को याद करते हुए बताते हैं कि उन्होंने कभी भी मेहनत करना नहीं छोड़ा। साथ ही यूपीएससी पास करना और इस परीक्षा में बैठना आसान नहीं था। पांच बार यूपीएससी की परीक्षा में असफलता के बाद मेरा विश्वास टूटा नहीं बल्कि, मेरा विश्वास और मजबूत हुआ। हां, जब विजय आईपीएस बने तो मुझे हिम्मत मिली और छठे प्रयास में यूपीएससी पास कर ली।

विजय सिंह गुर्जर ने बताई यह कहानी
विजय बताते हैं कि उन्होंने अपनी पढ़ाई हिन्दी भाषा में की है। नंबर भी अन्य की तुलना में कम ही आते थे। लेकिन मन में एक सपना था, जिसके लिए कड़ी मेहनत की है। विजय ने 10वीं में 54.5 12वीं में 67.23 फीसीदी नंबर लिए। स्नातक में 54.5 फीसदी अंक के साथ उन्होंने संस्कृत में शास्त्री की डिग्री भी ली है। विजय बताते हैं कि कांस्टेबल पद पर नौकरी करने के दौरान यूपीएससी की तैयारी और पढ़ाई के लिए समय नहीं निकल पाता था। हालांकि धीरे-धीरे मैं कुछ घंटे पढ़ाई के लिए निकालने लगा था। उन्होंने यूपीएससी परीक्षा की तैयारी करने वाले छात्रों के लिए कहा कि सच्ची लगन से मेहनत से यूपीएससी की परीक्षा पास की जा सकती है।

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -