Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

आत्मविश्वास के सहारे सिर्फ 15 दिनों में पास की UPSC की परीक्षा और बन गई IES अफसर

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

कहते हैं कि आत्मविश्वास जब उड़ान भरता है तो इंसान सोच से भी बड़ा करता है| सफलता को पाने के लिए जरूरी है कि आपके पास आत्मविश्वास की ताकत हो| आमतौर पर लोग मानते हैं कि UPSC जैसी  कठिन परीक्षा को पास करने के लिए सालों का इंतज़ार करना पढ़ता है या उसकी तैयारी करने में ही सालों-साल चले जाते हैं लेकिन आज हम आपको एक ऐसी IES अफसर के बारें में बताने जा रहे हैं जिसने मात्र 15 दिनों में UPSC को पास किया और IES अफसर बनी|

बहुत ही प्रेरणादायी है श्रुति की कहानी

दिल्ली की रहने वाली श्रुति शर्मा ने यह साबित कर दिया कि आप चाहो तो आप कुछ भी कर सकते हो| जिस परीक्षा को पास करने में लोग सालों-साल लगा देते हैं उस परीक्षा को श्रुति ने महज 15 दिनों में पास कर दिखाया है| श्रुति आज लाखों-करोड़ों लोगो के लिए प्रेरणास्त्रोत बन चुकी हैं| लेकिन श्रुति का यह सफर आसान नहीं था| आइए जानते हैं श्रुति के सफर के बारें में|

स्नातक में कई बार हुई थी फ़ेल

श्रुति का बचपन से ही पढ़ाई की तरफ झुकाव था, अपनी 12वीं कक्षा पूरी करने के बाद श्रुति ने बीटेक में दाखिला लिया| लेकिन इसमें वह कई बार फ़ेल हुई| इसी के साथ उनके पिता का स्वास्थ्य ठीक नहीं था| अब श्रुति अपनी जिंदगी में अच्छी नौकरी के साथ सैटल होना चाहती थी| इसके बाद उन्होंने एमटेक में दाखिला लेने के लिए GATE परीक्षा देने का मन बनाया| जिस दिन श्रुति की GATE की परीक्षा थी उसी दिन उनके पिता की भी तबीयत नाज़ुक थी लेकिन श्रुति परीक्षा के लिए गई और उन्हें परीक्षा में 1000वीं रैंक मिली|

पिता के देहांत के बाद 2-3 महीने तक संभलना हो गया था मुश्किल

GATE में 1000वीं रैंक हासिल करने के बाद श्रुति को कोई सलाह देने वाला नहीं था इसलिए उन्होंने उस एक साल के लिए पढ़ाई छोड़ दी| उसके बाद उन्होंने UPSC की परीक्षा दी लेकिन वह मात्र 2 अंकों से रह गई जब दोबारा उन्होंने परीक्षा दी तो वह 7 अंकों से रह गई| इसी बीच उनके पिता का भी देहांत हो गया| जिससे श्रुति बिल्कुल टूट चुकी थी| 2-3 महीने तक वह लगभग डिप्रेशन में जा चुकी थी लेकिन फिर उन्होंने खुद को संभाला और 15 दिन की तैयारी के साथ उन्होंने एक बार फिर UPSC की परीक्षा दी जिसमें वह सफल हुई और उन्हें IES का पद मिला|

15 दिनों में सिर्फ 2 घंटे सोती थी श्रुति

एक साक्षात्कार में श्रुति ने बताया जब वह UPSC की तैयारी कर रही थी तो उन 15 दिनों में वह सिर्फ 2 घंटे की नींद लेती थी| श्रुति के आत्मविश्वास और कुछ कर दिखाने के जुनून ने ही आज उन्हें IES अफसर बना दिया है| आज श्रुति रक्षा मंत्रालय में असिस्टेंट डायरेक्टर के पद पर नियुक्त हैं|

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -