Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

युवक ने दहेज़ के 11 लाख रुपये लौटाकर, लिए बस 1 रुपये

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

दहेज प्रथा ने हमारे समाज को इस तरह जकड़ लिया है कि खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा है. 21वीं सदी में भी कई लड़कियों को दहेज के कारण मौत के घाट उतार दिया जा रहा है. ऐसा नहीं है कि सरकार ने इस प्रथा को खत्म करने के लिए कोई कानून नहीं बनाया है लेकिन जमीनी स्तर पर कानून को उतारना अभी भी आसान नहीं है. दहेज लेने के मामले में समृद्ध परिवारों पर भी पीछे नहीं है. गांव से लेकर अब दहेज का मामला शहरों में भी बढ़ने लगा है. शहरों में भी लड़के वाले लड़कियों वालों से खूब डिमांड करते हैं. लेकिन समय का पहिया लगता है, शायद जैस घूम सा गया है. कई युवा आजकल अपने माता-पिता को दहेज में दिए जाने वाले पैसे लेने से मना कर देते हैं.

लौटा दिए दहेज के 11 लाख रुपये

लिंगानुपात के मामले में राजस्थान की स्थिति बेशक अच्छी ना हो लेकिन इस राज्य से आज एक दिल को खुश करने वाली घटना सामने आयी है. यहां एक युवक ने शादी के दौरान टीके की रस्म में लड़की वालों की तरफ से दिये जाने वाले 11 लाख रुपये लौटकर समाज में युवाओं के लिए उदाहरण बन गये हैं. लड़के के पिता ने भी उसका इस नेक काम में पूरा साथ दिया. पिता ने बहू को बेटी के रूप में स्वीकार करके दहेज का पैसा लौटा दिया. लड़की पक्ष का मान रखने के लिए लड़के वाले ने 1 का सिक्का थाली से उठा लिया था.लगता है अब युवाओं ने दहेज प्रथा को खत्म करने का जिम्मा अपने सिर पर ले लिया है. राज्य के कई युवाओं ने पैसे ना लेकर मिसाल पेश की है.

युवा खत्म करेंगे में देश में दहेज प्रथा को

लड़के पक्ष द्वारा पैसा वापिस करने की ये मिसाल पूरे देश के युवाओं को पेश करनी चाहिए. तभी बात बनेगी और हमारे देश से इस बुराई का अंत होगा. अब समय आ गया है कि देश के युवा जागे और दहेज जैसी कुप्रथा को खत्म करके लड़कियों को पेट में ही मारने से बचाएं.

source-patrika

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -