Friday, April 23, 2021
- Advertisement -

बचपन में ही छोड़ दी थी पढ़ाई, अब 83 वर्ष की उम्र में बनाई 4 भाषाओं की डिक्शनरी

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

आमतौर पर हम देखते हैं कि कई लोगों द्वारा माना जाता है कि बुढ़ापे में व्यक्ति कुछ नहीं कर सकता वह सिर्फ घर के लिए एक बोझ समान होता है| लेकिन असलियत तो यह है कि यदि हौंसलें बुलंद हो तो सफलता के सफर में उम्र कभी बाधा नहीं बन सकती| आज का लेख हम उस शख्सियत को समर्पित कर रहे हैं जिसने उम्र की परवाह किए बिना सफलता को हासिल किया और लोगों को बताया कि यदि व्यक्ति चाहे तो वह बुढ़ापे में भी इतिहास रच सकता है|

thebetterindia

बहुत ही प्रेरणादायी कहानी है श्रीधरण की

केरल के रहने वाले नजात्तेला श्रीधरण का नाम आज हर किसी की ज़ुबान पर है, जिसका कारण उनके द्वारा बनाई गई 4 भाषाओं की डिक्शनरी है| जिस उम्र में लोग खुद को सबसे ज्यादा कमजोर समझने लगते हैं उस उम्र में श्रीधरण ने 4 भाषाओं की डिक्शनरी लिख दी है| आज श्रीधरण उन सभी के लिए प्रेरणास्त्रोत बन चुके हैं जो बुढ़ापे को अपनी कमजोरी बना लेते हैं|

तेलुगू, तमिल, कन्नड़ और मलयालम भाषा में है श्रीधरण द्वारा बनाई गई डिक्शनरी

श्रीधरण ने तेलुगू, तमिल, कन्नड़ और मलयालम भाषा में इस शब्दकोश को बनाया गया है| शब्दकोश में लगभग 12.5 लाख शब्द हैं| इससे पहले 1872 में मलयालम-अंग्रेज़ी के शब्दकोश का निर्माण किया गया था| जिसे हर्मन गंडर्ट ने बनाया था| आज श्रीधरण की यह शब्दकोश लोगों के बीच अपना नाम बना रही है|

बचपन में ही छूट गई थी पढ़ाई

अमूमन माना जाता है कि जो लोग पढ़े-लिखे होते हैं वही अपनी ज़िंदगी में कुछ कर सकते हैं, हालांकि पढ़ना आवश्यक भी है| लेकिन बता दें कि बचपन में ही श्रीधरण की पढ़ाई छूट गई थी| उसके बाद भी वह अलग-अलग किताबों को पढ़ते थे| जानकारी के मुताबिक वह 25 वर्ष से इस शब्दकोश पर मेहनत कर रहे थे और 83 वर्ष की उम्र में उन्होंने इस शब्दकोश को पूरा किया है|

प्रकाशक ढूँढने में हुई थी समस्या

दरअसल जब श्रीधरण ने इस शब्दकोश को पूरा किया तो उसके बाद वह प्रकाशक को ढूँढने लगे| लेकिन उनके शब्दकोश को प्रकाशित करने के लिए कोई भी तैयार नहीं था| उसके बाद श्रीधरण की मदद के लिए डॉक्युमेंट्री फिल्म निर्माता, नन्दन आगे आए और उन्होंने श्रीधरण के संघर्ष के उपर “ड्रीमिंग ऑफ वर्ड्स” नाम की डॉक्युमेंट्री बनाई| उसके बाद केरल के सीनियर फोरम के प्रयासों से यह शब्दकोश सफलता की ऊंचाइयों तक पहुंचा| आज इस डॉक्युमेंट्री को अनेकों फिल्म समारोह में भी दिखाया जाता है|

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -