Thursday, April 22, 2021
- Advertisement -

लगातार पांच बार फेल होने के बाद नूपुर ने तोड़ा रिकार्ड, इंटेलीजेंस ब्यूरो से सीधे बनीं आईएएस अफसर

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

नुपूर गोयल एक ऐसी शख्सियत हैं, जोकि एक, दो या तीन बार नहीं बल्कि लगातार पांच बार फेल हुईं। मगर हार नहीं मानी और आखिरी बार में वह अपने हौंसले के बल पर सफलता पाने में सफल रहीं। यह कहानी है एक जुनून और हौंसले की, जिसने कभी भी अपनी सफलता को पाने के लिए बेसब्री नहीं दिखाई। आखिरकार वह अपने सपने को सच कर पाई और 11 वां स्थान हासिल कर यूपीएससी क्रेक करने के साथ ही आईएएस अधिकारी बनने में कामयाब हुई।

instagram/nupurgoel ias

इंटेलीजेंस अफसर से बनीं आईएएस

मूल रूप से दिल्ली की रहने वाले नूपुर गोयल ने हाईस्टडी हासिल करने के बाद यूपीएससी पास करने का निर्णय लिया था। उन्होंने इंजीनियरिंग और प्रशासन में मास्टर्स डिग्री हासिल करने के बाद देश की सबसे बड़ी इंटेलीजेंस ब्यूरो में आफिसर के पद पर जॉब की थी। यह जॉब करते हुए उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा देने का निर्णय लिया। नूपुर ने जब अपनी नई यात्रा आंरभ की तो पहले ही प्रयास में उन्हें जोर का झटका सहना पड़ा। वह अपने पहले प्रयास में यूपीएससी के इंटरव्यू तक पहुंच गईं। मगर इसमें उन्हें सफलता नहीं मिली। इस तरह से वह एक, दो, तीन, चार और पांच प्रयास में भी कामयाबी हासिल नहीं कर पाई।

मगर नूपुर ने दिखाया हौंसला

आमतौर पर इतने प्रयास करने के बाद कैंडिडेटस अंदर से टूट जाता है और वह इसे करने की बजाए इससे तौबा करने में ही अपनी भलाई समझता है। मगर नूपुर ने इतनी बार असफल रहने के बाद भी अपना धैर्य नहीं खोया और वह लगातार मछली की आंख पर अर्जुन की तरह से निशाना लगाकर बैठी रहीं। कहते हैं कि सफलता एक दिन में नहीं मिलती, मगर एक दिन जरूर मिलती है। ठीक इसी तरह से नूपुर को भी अपने छठे प्रयास में बेहतरीन तरीके से सफलता मिली और वह 11 वीं रैंक के साथ यूपीएससी क्रैक करने में सफल रही।

परिवार वाले भी चाहते थे कि नूपुर आईएएस बनें

नूपुर ने बताया कि आईएएस बनने का सपना उनके साथ साथ उनके परिवार वालों का भी था। उनके साथ बहुत से लोगों की उम्मीदें जुड़ी हुई थी। सबसे बड़ी बात तो यह है कि खुद को प्रोत्साहित करते रहने की जरूरत होती है। इसलिए वह सभी के सपने को साकार करने के लिए ही कठिन मेहनत कर रही थीं। सभी लोगों ने फेल होने के बावजूद भी उनका हौंसला बढ़ाया, जिससके चलते वह इस कठिन परीक्षा को पास करने में सफल रहीं।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -