Tuesday, January 19, 2021
- Advertisement -

शादी के बाद पति व बच्चों की जिम्मेदारी संभाल रही इस घरेलू महिला ने IAS बन किया सपना पूरा

Must Read

सलाम है इस शिक्षक को, हर रोज घोड़े पर बच्चों को पढ़ाने के लिए 18 किलोमीटर दूर जाते हैं वेंकटरमन

गुरू और शिक्षक किसी की भी तकदीर बनाने में सक्षम माने जाते हैं। कहते हैं कि शिक्षक उस दीपक...

किसी की मोहताज नहीं होती कामयाबी, प्रिंस ने साबित कर दिखाया, बनाया ऐसा पक्षी, जो बचाएगा हजारों जिदंगी

कहते है कि कामयाबी किसी की मोहताज नहीं होती। जिसके अंदर काबलियत होगी, कामयाबी उसकी चौखट पर खड़ी होती...

New Delhi: कौन कहता है कि शादी के बाद पढ़ाई नहीं की जा सकती है। जो लोग ऐसा कहते हैं उनके लिए आज हम एक ऐसी स्टोरी लेकर आए हैं। जिसे पढऩे के बाद यकीनन उनकी सोच में बदलाव आएगा, और आगे से वह भी कह सकेंगे कि शादी के बाद भी बेटियां पढक़र अपना मुकाम हासिल कर सकती हैं। हरियाणा की पुष्पा इसका सटीक उदाहरण है। चलिए जानते हैं इनके बारे में

साल 2011 में हुई शादी
हरियाणा की रहने वाली पुष्पा लता की शादी साल 2011 में हुई। पुष्पा ससुराल जाने के बाद बाकी महिलाओं की तरह घर का कामकाज देखने लगी। पति के लिए सुबह उठकर नाश्ता व खाने में लंच बनाने के साथ ही पुष्पा की दिन की शरुआत होती थी। ससुराल में उन्हें सभी से सहयोग भी मिल रहा था। सभी खुशी-खुशी अपनी जिंदगी बीता रहे थे

जब यूपीएससी के बारे में सुना
पुष्पा लता ने ससुराल में यूपीएससी के बारे में सुना, और इसी दौरान उन्होंने तय किया कि वह भी इस परीक्षा के लिए तैयारी करेंगी। बता दें कि पुष्पा के पति ने भी अपनी पत्नी का समर्थन किया और कहा कि तुम यूपीएससी की तैयारी करो। हालांकि परिवार के लोग इस बात को लेकर थोड़े असहज थे। फिर भी पुष्पा ने इस परीक्षी की तैयारी की।

घर , बच्चों के संग हुई यूपीएससी की तैयारी
पुष्पा के लिए यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी कर पाना काफी कठिन रहा। ग्रहणी होने की वजह से उन्हें रोजाना सुबह-सुबह परिवार के लोगों के लिए नाश्ता फिर खाना व बच्चों की देखभाल करने के दौरान पढ़ाई करने के लिए समय नहीं मिल पाता था। फिर भी पुष्पा घबराई नहीं और तैयारी जारी रखी।

जब बैंक की नौकरी छोड़ दी
बताया जाता है कि पुष्पा ने यूपीएससी की तैयारी करने के लिए साल 2015 में बैंक की नौकरी छोड़ दी। और अपना समय यूपीएससी की तैयारी करने में लगा दिया।

दूसरे प्रयास में किया सपना पूरा
पुष्पा की मेहनत आखिरकार रंग लाई। उन्होंने साल 2017 में 80वीं रैंक लाकर यूपीएससी परीक्षा पास की, और घरेलू महिला कहलाई जाने वाली पुष्पा को आईएएस कैडर मिला। पुष्पा का यह दूसरा प्रयास था।

इस कठिन परीक्षा के लिए सेल्फ स्टडी
पुष्पा यूं तो दिल्ली आकर यूपीएससी की तैयारी करना चाहती थी। लेकिन परिवार की जिम्मेदारी व पैसे की तंगी के कारण उन्होंने घर पर रहकर ही तैयारी की। सेल्फ स्टडी की बदौलत उन्होंने यूपीएससी परीक्षा पास कर उन लोगों के लिए एक मिसाल पेश की, जो घरेलू महिलाओं को घर तक ही सीमित रखना चाहते हैं।

- Advertisement -

Latest News

- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -