Sunday, January 17, 2021
- Advertisement -

गरीब बच्चों के लिए मसीहा बने अमित लाठिया, पूरी सैलरी बच्चों की देखभाल में करते हैं खर्च

Must Read

होने से पहले ही टूट गई रतन टाटा और एलन मस्क की पार्टनरशिप, टाटा मोटर्स ने ये खुलासा कर चौंका दिया

भारत में दुनिया के सबसे अमीर शख्स एलन मस्क की इलेक्ट्रिक कार बनाने वाली कंपनी भारत में आने से...

कैसे बना जाए IAS , क्या है UPSC की तैयारी के टिप्स, बता रही हैं चर्चित IAS अधिकारी टीना डाबी

देश भर में यूपीएससी में टॉप करने के बाद आईएएस बनीं टीना डाबी अधिकांश चर्चाओं में रहती हैं। चाहे...

सबसे अधिक जमीन खरीदकर अमेरिका के नंबर-1 किसान बनें बिल गेटस, इतनी जमीन खरीदकर बनाया रिकार्ड

दुनिया के चौथे अमीर शख्स बिल गेटस ने अपने नाम एक और बड़ा रिकार्ड बना लिया है। वह अमेरिका...

New Delhi: कहते हैं जिसने गरीबी को नजदीक से देखा होता है, उसे गरीब लोगों की पीड़ा का अहसास जरूर होता है। आज की स्टोरी ऐसे एक शख्स कि जिनका खुद का जीवन गरीबी के बीच बीता है। पढ़ाई के दौरान पार्ट टाइम जॉब कर वह दिल्ली पुलिस में बतौर कांस्टेबल पद पर लगे। इस जवान का नाम अमित लाठिया है। वह दिल्ली पुलिस में साल 2010 में कांस्टेबल के पद पर लगे थे। लाठिया ने गरीबी देखी थी। इसलिए वह चाहते थे कि गरीब व जरूरतमंद बच्चों की मदद की जाए। जिससे वह भी समाज में अपना नाम कमा सके। इस उद्देशय के तहत उन्होंने सात साल पहले एक मुहिम चलाई। जिसके तहत वह गरीब बच्चों की मदद करने लगे। मजे की बात यह है कि लाठिया के द्वारा आज भी यह मुहिम चलाई जा रही है। इस मुहिम का लाभ उठाते हुए कई बच्चों ने अपना भविष्य बनाया है। और खुशी की जिंदगी बीता रहे हैं। आइए जानते हैं इनके बारे में

representation image

रिक्शा चला रहा था 18 साल का युवक
लाठिया यूं तो हरियाणा के सोनीपत के रहने वाले हैं. वह बताते हैं कि एक दिन वो सोनीपत में कहीं जा रहे थे। इसी दौरान उन्होंने देखा कि एक 18 साल का युवक लंबी दौड़ लगा रहा था, जिसे उन्होंने कई बार देखा था। जब वह उसके पास गए तो पता चला कि वह 12वीं का छात्र हैं और गरीबी के चलते वह रिक्शा खींच रहा है। लाठिया ने विनय की मदद की , और लाठिया की मदद की वजह से विनय हरियाणा पुलिस में तैनात है।

 

30 बच्चे सरकारी नौकरी में
बताते चले कि बीते सात सालों में लाठिया ने कई गरीब बच्चों की मदद की है। इसका अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि उनके द्वारा मिली मदद से 30 बच्चे सरकारी नौकरी में है।

पूरी सैलरी खर्च करते हैं
लाठिया बताते हैं कि वह बच्चों की देखभाल में अपनी पूरी सैलरी खर्च करते हैं। वह बच्चों को पढ़ाते भी हैं, साथ ही प्रतियोगिता परीक्षा के लिए शारीरिक क्रिया की तैयारी भी करवाते हैं।

सरकारी नौकरी हासिल करे
लाठिया कहते हैं उनका एक सपना है ज्यादा से ज्यादा बच्चे सरकारी नौकरी में जाए। जिसे उनका सपना भी पूरा होगा।

- Advertisement -

Latest News

होने से पहले ही टूट गई रतन टाटा और एलन मस्क की पार्टनरशिप, टाटा मोटर्स ने ये खुलासा कर चौंका दिया

भारत में दुनिया के सबसे अमीर शख्स एलन मस्क की इलेक्ट्रिक कार बनाने वाली कंपनी भारत में आने से...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -