Tuesday, April 20, 2021
- Advertisement -

इंसान को भूखा नहीं देख सकते, इसलिए रोजाना जरूरतमंद लोगों को खिलाते हैं खाना

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

New Delhi: दिल्ली व अन्य मेट्रो सिटी में हर किसी के बस की बात नहीं कि सभी को दो वक्त का खाना मिल जाए। ऐसे में कई लोग बिना रोटी खाए ही खुले आसमान के नीचे सोने को मजबूर होते हैं। बहरहाल आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्होंने एक मुहिम चलाई है। मुहिम के तहत वह जरूरतमंद लोगों को खाना खिला रहे हैं। जरूरतमंद लोगों को खाना खिलाने वाले शख्स का नाम सुरेश कुमार है। चलिए जानते हैं इनके बारे में ..

the better india

12 साल से लोगों को खिला रहे हैं खाना
केरल के कन्नूर जिला के सीपी सुरेश कुमार, पिछले एक दशक से ज्यादा समय से जरूरतमंद लोगों का पेट भर रहे हैं। वह खाने के अलावा लोगों में कपड़े भी दान करते हैं। वह अब तक चार लाख लोगों को खाना खिला चुके हैं।

भिखारियों से हुई हमदर्दी, जो कभी पैसे वाले थे
सुरेश बताते हैं कि उन्हें बेहद दुख होता है जब कोई खाने के लिए भीख मांगता है। वह बताते हैं कि उन्होंने बहुत से ऐसे लोगों को देखा जो पहले अमीर थे, लेकिन आज उनके पास भोजन के लिए पैसे नहीं है। इसी को देखते हुए उन्होंने तय किया कि अब इनकी मदद करूंगा।

ऐसे हुई मुहिम की शुरुआत
सुरेश यूं तो छोटी सी दुकान पर काम करते थे। इसके बदले जो उन्हें पैसे मिलते थे। उन पैसों से उन्होंने कुछ प्रिंटआउट छपवाए। जिसे जगह-जगह पर लगवाए। सुरेश को शायद उम्मीद थी कि किसी न किसी से मदद मिलेगी। क्योंकि वह मदद के लिए किसी को फोर्स नहीं करना चाहते थे। इसलिए उन्होंने पोस्टर पर लिखा था , जिसे मदद करनी है वो करे।

लोगों ने की सुरेश की मदद
सुरेश जो कि 64 साल के हैं, वह बताते हैं कि पोस्टर को पढऩे के बाद मदद मिलनी भी शुरु हुई। पहले दिन से कई लोग खाना लेकर पहुंचे। वह बताते हैं कि पहले दिन 20 से 25 पैकेट मिले थे। जिनमें खाना था। इन पैकेटों को मैंने जरूरतमंद लोगों में दिया। जिसे पाकर जरूरतमंद लोग खुश हुए। इसके बाद रोजाना यह सिलसिला जारी रहा।

क्या कहते हैं स्थानीय लोग
एक निजी कंपनी में काम करने वाली महिला सुनीता बताती हैं कि वह अपने घर में बच्चों के जन्मदिन पर ज्यादा खाना बनाती थी। जिसे वह सुरेश को सौंप देती थी। वह बताती हैं कि उन्होंने बीते 8 साल के दौरान 16 बार जरूरतमंदों के लिए खाना भेजा है।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -