Sunday, January 17, 2021
- Advertisement -

बुजुर्ग महिलाओं ने सोनू से मांगी मदद, तैयार हुए सूद

Must Read

बचपन में ही छोड़ दी थी पढ़ाई, अब 83 वर्ष की उम्र में बनाई 4 भाषाओं की डिक्शनरी

आमतौर पर हम देखते हैं कि कई लोगों द्वारा माना जाता है कि बुढ़ापे में व्यक्ति कुछ नहीं कर...

नहीं सहन हुई माँ की तकलीफ और बना दिया एक घंटे में 200 रोटी बनाने वाला रोटीमेकर

बूढ़े माता-पिता को घर से निकाल देना, या उन्हें वृद्ध आश्रम में छोड़ देना या फिर उनके साथ दुर्व्यवहार...

होने से पहले ही टूट गई रतन टाटा और एलन मस्क की पार्टनरशिप, टाटा मोटर्स ने ये खुलासा कर चौंका दिया

भारत में दुनिया के सबसे अमीर शख्स एलन मस्क की इलेक्ट्रिक कार बनाने वाली कंपनी भारत में आने से...

New Delhi: अभी हाल में ही सोनू सूद की किताब आई एम नो मसीहा लॉन्च हुई थी। बता दें कि इस किताब की डिमांड सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि विदेशों में भी हो रही है। इस बीच सोनू यह कहते हुए भी नजर आए कि वह मसीहा नहीं है। वह जो कार्य कर रहे हैं उसके पीछे सिर्फ एक ही मकसद है कि सभी लोग खुशहाल रहे। गौर करने वाली बात यह है कि सोनू सूद ने लॉकडाउन से लेकर अब तक न जाने कितने हजार लोगों के जीवन में मुस्कान लाने का काम किया है। मदद करने का यह सफर अभी थमा नहीं है। सोनू ने हाल में बुजुर्ग महिलाओं की मदद की है। इन महिलाओं ने सोनू से मदद की गुहार लगाई थी। सोनू ने इन बुजुर्ग महिलाओं की मदद की है।

ठंड से होती हैं यहां के लोगों को परेशान
मिर्जापुर की बुजुर्ग महिलाओं ने सोनू से मदद मांगी थी। बताया जा रहा है कि मिर्जापुर के 20 गांव में लोगों की आबादी बेहद ज्यादा है। जिससे ठंड के दिनों में लोगों को राहत नहीं मिल पा रही थी।

बुजुर्ग महिलाओं ने मांगी मदद
मिर्जापुर की बुजुर्ग महिलाओं को ठंड के दिनों में परेशानी हो रही थी। जिसकी वजह से एक ग्रामीण ने सोून सूद से मदद मांगी। जिस पर सोनू ने भी तुरंत मदद करने का ऐलान कर दिया है।

मदद देने पर सोनू को ग्रामीण कर रहे हैं थैंक्यू
जिस तरह से सोनू ने ग्रामीणों की मदद के लिए अपनी स्वीकृति दी है। उसे पाकर ग्रामीण भी खुश हैं। गांव के लोग सोनू के काम की जमकर तारीफ कर रहे हैं।

क्या कहा गांव के लोगों ने
ग्रामीणों ने कहा कि सोनू सूद के बारे में काफी सुना था कि वह लोगों की मदद करते हैं। इसलिए हमने भी तय किया कि एक बार सोनू सूद से मदद मांग कर देखेेंगे।

- Advertisement -

Latest News

बचपन में ही छोड़ दी थी पढ़ाई, अब 83 वर्ष की उम्र में बनाई 4 भाषाओं की डिक्शनरी

आमतौर पर हम देखते हैं कि कई लोगों द्वारा माना जाता है कि बुढ़ापे में व्यक्ति कुछ नहीं कर...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -