Thursday, January 21, 2021
- Advertisement -

कभी अपने बच्चे को पानी मिला दूध पिलाना था मजबूरी, आज अपनी पाक कला से कमाती हैं लाखों रुपये

Must Read

400 कैंसर योद्धा बच्चों की पढ़ाई को जारी रखने के लिए दिए गए टैबलेट, CankidsKidscan ने की सराहनीय पहल

वर्तमान में कोरोना महामारी के चलते सभी शिक्षण संस्था अथवा स्कूल बंद हैं| स्कूल के साथ-साथ कैनशाला भी कोरोना...

दुनिया की सबसे ऊंची चोटी से जमा किए गए कचरे को कला में बदलेगा नेपाल, माउंट एवरेस्ट के कचरे से बनेगी आर्ट गैलरी

हाल ही में माउंट एवरेस्ट अपनी ऊंचाई बढ़ने को लेकर काफी चर्चाओं में रहा| लेकिन अब एक बार फिर...

8 बार स्वर्ण पदक हासिल कर रोशन किया माता-पिता का नाम, आज करती हैं देश के क़ानूनों की रखवाली

वर्तमान समय में लड़कियां किसी से कम नहीं हैं, इस वाक्य को महिलाओं ने अपने कारनामों से साबित कर...

कहते हैं कि “असफलता हमेशा अनाथ होती है, लेकिन सफलता के बहुत रिश्तेदार होते हैं”| वर्तमान में यह वाक्य एक दम सटीक बैठता है क्यूंकि वर्तमान में यदि आप असफल हैं या कठिनाई में हैं तो लोग आपको हमेशा ताने देंगे और आपको अकेला छोड़ देंगे लेकिन सफलता में यही लोग आपका साथ देंगे| इस वाक्य से मिलती हुई कहानी है शिल्पा की| जिसे लोगों ने खूब ताने मारे लेकिन अपनी कड़ी मेहनत से शिल्पा ने सफलता को हासिल कर लिया|

आइए जानते हैं शिल्पा के बारे में

शिल्पा एक सफल उद्यमी है और बहुत ही मेहनती महिला है| आज शिल्पा ने कड़े संघर्ष के पश्चात सफलता के उस मुकाम को हासिल कर लिया है जिस पर पहुँचना हर किसी के बस का नहीं है| शिल्पा आज “हल्ली माने रोटी” नामक फूड ट्रक की मालकिन हैं और वह इस बिज़नस से लाखों रुपये कमा रही हैं| आज शिल्पा महिलाओं के लिए एक मिसाल बन चुकी हैं|

एक समय में बच्चे को दूध पिलाने के पैसे तक नहीं थे, पानी मिलाकर पिलाना पड़ता था दूध

दरअसल 2009 में शिल्पा के पति लापता हो गए थे, खूब ढूँढने के पश्चात भी उनकी कोई खोज खबर नहीं मिली| उसके बाद शिल्पा को आर्थिक तंगी का सामना भी करना पड़ रहा था| उस वक़्त पर शिल्पा के पास अपने बच्चे को दूध पिलाने तक के पैसे नहीं थे जिसकी वजह से उन्हें दूध में पानी मिलाकर अपने बच्चे को पिलाना पड़ता था| साथ ही जब वह नौकरी मांगने जाती थी तो लोग उन्हें खूब ताने दिया करते थे|

माँ के दिये विचार ने बदल दी शिल्पा की ज़िंदगी

बता दें कि फूड ट्रक का विचार शिल्पा को उनकी माँ ने दिया था| अपनी माँ के दिये इस विचार पर शिल्पा ने काम करना शुरू कर दिया और अपने बच्चे की एफ़डी तोड़कर एक सेकंडहैंड ट्रक खरीद लिया| उसके बाद उन्होंने अपना फूड ट्रक शुरू किया और लोगों ने इस फूड ट्रक को खूब सराहा| शिल्पा का यह फूड ट्रक बहुत ही कम दामों पर खाना उपलब्ध कराता है| शिल्पा अपना यह फूड ट्रक मॉल, स्कूल, कॉलेज और ऑफिस के बाहर खड़ा करती हैं|

प्रेरक कहानी सुनने के बाद आनंद महिंद्रा ने उपहार में दी गाड़ी

वर्तमान में शिल्पा अपने बिज़नस से एक दिन में 5 हज़ार रुपये कमाती हैं और हर महीने उनकी कमाई लाखों में होती है| शिल्पा की कहानी बहुत ही प्रेरणादायक है इसी कारण से यह कहानी मंगलुरु के स्थानीय समाचार पत्र में भी प्रकाशित हो चुकी है| जब यह कहानी आनंद महिंद्रा ने पड़ी तो उन्होंने शिल्पा को आनंद महिंद्रा का बोलेरो मैक्सी ट्रक प्लस उपहार में दे दिया| कभी जो लोग शिल्पा को ताने मरते थे आज वही लोग शिल्पा की तारीफ कर रहे हैं|

- Advertisement -

Latest News

400 कैंसर योद्धा बच्चों की पढ़ाई को जारी रखने के लिए दिए गए टैबलेट, CankidsKidscan ने की सराहनीय पहल

वर्तमान में कोरोना महामारी के चलते सभी शिक्षण संस्था अथवा स्कूल बंद हैं| स्कूल के साथ-साथ कैनशाला भी कोरोना...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -