Thursday, January 21, 2021
- Advertisement -

शानदार कार्य: समुद्र किनारे सफाई अभियान में जुटे 6 युवक, 18 किलोमीटर तक फैले 6000 किलो कचरे को साफ किया

Must Read

400 कैंसर योद्धा बच्चों की पढ़ाई को जारी रखने के लिए दिए गए टैबलेट, CankidsKidscan ने की सराहनीय पहल

वर्तमान में कोरोना महामारी के चलते सभी शिक्षण संस्था अथवा स्कूल बंद हैं| स्कूल के साथ-साथ कैनशाला भी कोरोना...

दुनिया की सबसे ऊंची चोटी से जमा किए गए कचरे को कला में बदलेगा नेपाल, माउंट एवरेस्ट के कचरे से बनेगी आर्ट गैलरी

हाल ही में माउंट एवरेस्ट अपनी ऊंचाई बढ़ने को लेकर काफी चर्चाओं में रहा| लेकिन अब एक बार फिर...

8 बार स्वर्ण पदक हासिल कर रोशन किया माता-पिता का नाम, आज करती हैं देश के क़ानूनों की रखवाली

वर्तमान समय में लड़कियां किसी से कम नहीं हैं, इस वाक्य को महिलाओं ने अपने कारनामों से साबित कर...
Sanjay Kapoorhttps://citymailnews.com
Sanjay kapoor is a chief editor of citymail media group

ओडिशा के समुंद्र तट बेहद ही खूबसूरत और मनमोहक हैं। समुंद्र के किनारे आने वाली लहरों से खेलने के लिए हजारों लोग वहां खिंचे चलते आते हैं। मगर वह भूल जाते हैं कि वहां आकर मौज मस्ती करने के चक्कर में वह समुंद्र किनारों व पानी के भीतर ऐसी गंदगी फेंक जाते हैं, जोकि बेहद ही शर्मनाक और पानी के अंदर रहने वाले जीवों के लिए जानलेवा होती है। समुंद्र किनारे मस्ती करने के बाद वह गदंगी छोडक़र वहां से चले जाते हैं। इससे पर्यावरण को भी खासा नुक्सान पहुंचता है। मगर कोई भी इस बारे में नहीं सोचता।

इन युवाओं ने शुरू किया बड़ा अभियान

मगर स्थानीय युवकों से समुंद्र किनारे फैली गंदगी का यह दृश्य देखा नहीं गया और उन्होंने अपने कंधों पर समुंद्र तटों की सफाई का बीडा उठा लिया। ऐसे ही 6 जुझारू युवाओं ने पर्यावरण एवं पानी के जीवों को बचाने का शानदार अभियान चलाया। इस अभियान को उन्होंने नाम दिया देवी कच्छाप कल्याणम। इसके अंतर्गत ही इन युवाओं ने समुंद्र तटों के किनारों से प्लास्टिक की थैली, खाली बोतलें, टूटी कांच की बोतलें और मछली पकडऩे वाले जाल और यंत्र उठाने की शुरूआत कर दी। इससे ना केवल समुंद्र का पानी तो गंदा होता ही है, साथ ही जीवों की जान भी खतरे में पड़ जाती है। इसके साथ साथ समुंद्र किनारे की खूबसूरती भी खराब होती है। इन सभी ने समुंद्र किनारे के करीब 18 से 20 किलोमीटर के क्षेत्र में फैले करीब 5 से 6 हजार किलो कचरा साफ कर दिखाया।

इन लोगों ने किया सफाई अभियान

इस अभियान के लीडर सौम्या रंजन ने बताया कि बहुत से लोग मछली पकडऩे के लिए ओडिशा के पुरी जिले में एस्टारंगा समुद्र तट को दूषित करने में अपनी शान समझते हैं। इससे जहां कछुओं पर संकट आ जाता है, वहीं अन्य समुंद्री जीव भी मरने लगते हैं। उनका कहना है कि मछली पकडऩे वालों को तो वह नहीं रोक सकते, मगर समुंद्र तटों की सफाई जरूर कर सकते हैं। इसलिए उन्होंने देवी सफाई का यह अभियान शुरू कर दिया है। इस अभियान में रंजन के साथ सुमन प्रधान, सुशांत परिदा, प्रभाकर विस्वाल तथा दलीप कुमार ने भी बढ़ चढक़र हिस्सा लिया। सफाई के बाद इकठठे हुए कचरे को प्रशासन ने एक निजी कंपनी की मदद से उठाया । इस अभियान को शुरू करने पर लोगों ने सभी युवाओं की खुले दिल से प्रशंसा भी की है।

- Advertisement -

Latest News

400 कैंसर योद्धा बच्चों की पढ़ाई को जारी रखने के लिए दिए गए टैबलेट, CankidsKidscan ने की सराहनीय पहल

वर्तमान में कोरोना महामारी के चलते सभी शिक्षण संस्था अथवा स्कूल बंद हैं| स्कूल के साथ-साथ कैनशाला भी कोरोना...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -