Friday, April 23, 2021
- Advertisement -

पिता ने घर-घर जाकर दूध बेचा, मजदूरी की, बेटा बना स्टार क्रिकेटर, ये है इस उभरते खिलाड़ी के संघर्ष की कहानी

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...
Sanjay Kapoorhttps://citymailnews.com
Sanjay kapoor is a chief editor of citymail media group

मां-बाप अपने बच्चों को किसी भी लायक बनाने के लिए अपनी जिदंगी दांव पर लगाने से पीछे नहीं रहते। अपने बच्चों को बड़ा आदमी बनाने के लिए मां और बाप मजदूरी भी करते हैं, ताकि उनके बच्चे उनका नाम रोशन कर सकें। ऐसी ही कहानी है क्रिकेट की दुनिया में उभरते सितारे प्रियंम गर्ग की। जिनके पिता ने अपने बेटे को क्रिकेटर बनाने के लिए ना केवल घर घर जाकर दूध बेचा, बल्कि गाड़ी में सामान ढोया और स्कूल की बस भी चलाई। ताकि वह अपने बेटे को खूब पढ़ा लिखाकर बड़ा आदमी बना सकें।

instagram/garg_priyam

प्रियम ने इस तरह से खुद को साबित किया

प्रियम के परिवार की यह मेहनत रंग भी लाई, जब उनका बेटा अंडर-19 क्रिकेट टीम का कप्तान बना। अपनी मेहनत और बेहतरीन खेल के दम पर प्रियम ने इस टीम में अपना टॉप का स्थान बनाया। लोगों ने इस उभरते खिलाड़ी का टैलेंट तब देखा, जब वर्ष 2018 में प्रियम ने रणजी ट्रॉफी खेलते हुए मैच में दो शतक, 1 सेंचुरी और 5 हॉफ सेंचुरी बनाकर दिखाई। इस मैच में शानदार प्रदर्शन के बाद प्रियम को राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के लिए चुन लिया गया। इस तरह से वह अंडर-19 टीम में अपनी जगह बनाते हुए वर्ष 2020 में कप्तान बन गए।

पिता ने की थी अथक मेहनत

प्रियम कहते हैं कि इस लेवल पर पहुंचाने के लिए उनके परिवार ने बहुत कुछ सहा है। खासतौर पर उनके पिता ने उन्हें बेहतरीन शिक्षा देने के लिए दूध बेचने के अलावा और भी मजदूरी के काम किए हैं। मेरठ के रहने वाले प्रियम के पिता नरेश गर्ग और मां कुसुम देवी ने अपने बेटे को इस मुकाम तक पहुंचाने के लिए रात दिन मेहनत की है। तब जाकर वह इस मुकाम पर पहुंचने में सफल रहे हैं। प्रियम का लक्ष्य सचिन तेंदुलकर जैसा क्रिकेटर बनना है। हालांकि घर में टीवी ना होने के बावजूद वह सचिन का खेल देखने के लिए किसी भी शोरूम के बाहर जाकर खड़े हो जाते थे।

द्रविड़ ने की है प्रियम की प्रशंसा

प्रियम का खेल देखने के बाद राहुल द्रविड ने कहा कि उनमें अभी और भी निखार आएगा और वह क्रिकेट की दुनिया में बड़ा नाम कमाएंगे। बता दें कि प्रियम के परिवार ने अपने बेटे को इस मुकाम तक पहुंचाने के लिए कितनी दुआएं मांगी हैं। यही वजह है कि आज प्रियम उस मुकाम पर पहुंचने वाला है, जब वह भारतीय क्रिकेट टीम में स्टार खिलाडिय़ों के साथ खेलते नजर आएंगे। फिलहाल प्रियम सनराईजर्स हैदराबाद ब्ीम के लिए खेल रहे हैं।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -