Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

शादी के डर से की दिन रात मेहनत, इस तरह से UPSC टॉप करते हुए निधि बन गईं IAS अफसर

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

यूपीएससी की परीक्षा देते हुए निधि एक ऐसे रास्ते पर पहुंच गई थी, जहां फेल होते ही उसे शादी करने के लिए बाध्य होना था। अपने पापा से एक आखिरी चांस मांगकर जब निधि ने दिन रात मेहनत की तो वह सफलता की मंजिल पर पहुंच गई। इस तरह से इस संघर्ष भरे रास्ते पर चलकर निधि ने आईएएस अफसर बनने का सफर तय कर लिया। वर्ना इस बार फेल होने पर उसे शादी के बंधन में बंधना पड़ता। लेकिन किस्मत ने निधि का रास्ता पहले से ही तय कर रखा था।

मैकेनिकल इंजीनियर है निधि

हरियाणा के गुरूग्राम की रहने वाली निधि ने शुरूआती शिक्षा अपने इसी शहर से पूरी की। उन्होंने ग्रेजुएशन किया और फिर मैकेनिकल इंजीनियरिंग की डिग्री ली। इसके बाद निधि ने हैदराबाद जाकर दो साल तक जॉब की। पंरतु निधि का मन अशांत था, वह कुछ ऐसा करना चाहती थीं, जिससे वह अपने देश की सेवा कर सके। भीतर ही भीतर निधि ने निर्णय लिया और कुछ नया करने की धुन के चलते एएफसीएटी (डिफेंस सर्विस) की परीक्षा दे दी। उन्होंने यह परीक्षा पास कर ली। निधि का जब इंटरव्यू हुआ ते वहां उनकी योगयता को देखते हुए इंटरव्युअर ने उन्हें सिविल सर्विस में जाने की सलाह दी। यह बात निधि को जम गई।

instagram/nidhi_siwach_ias

नौकरी छोडक़र गुरूग्राम पहुंच गई निधि

इसके बाद निधि ने अपनी नौकरी छोडक़र गुरूग्राम का रास्ता पकड़ लिया। घर आकर उन्होंने सिविल सर्विस की तैयारी शुरू कर दी। दो बार फेल होने के बाद निधि पर घर वालों ने प्रेशर बढ़ा दिया कि अब बहुत हो गया बस शादी कर लो। घर में सबसे बड़ी बेटी होने की वजह से निधि पर शादी करने का दबाव बढ़ गया।

तीसरी बार में बनीं आईएएस अफसर

दिल्ली नॉलेज टे्रक को दिए एक इंटरव्यू में निधि ने खुद इस बात का खुलासा किया। उन्होंने बताया कि किस तरह से अपने पापा को आखिरी कोशिश के लिए मना लिया। तीसरी दफा की तैयारी में निधि ऐसी जुटी कि 6 महीने तक उसने अपने घर का मेन गेट तक नहीं देखा। 2018 में जब निधि का रिजल्ट आया तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा। निधि ने तीसरे प्रयास में 83 रैंक के साथ यूपीएससी सीएसई की परीक्षा पास कर ली। इस तरह से निधि ने अपनी किस्मत को खुद अपने हाथों से लिखते हुए आईएएस अफसर बनने का रास्ता साफ कर लिया।

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -